Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

जिंदगी है खाली गागर देख लो।

गज़ल

2122…….2122……….212
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
इसमें तुम भरकर समंदर कर देख लो।

लाख कर डाले जतन खाली रही,
उनका था ये ही मुकद्दर देख लो।

पैर फैलाओ वहीं तक देखकर,
पांव चादर के हों अंदर देख लो।

जो भी आया है उसे जाना ही है,
रुक नहीं पाया सिकंदर देख लो।

अब भी मौके पर गुलाटी मारता,
आदमी अब भी है बंदर देख लो।

मुफलिसों का दर्द तब महसूस हो,
बिन रजाई ठंड सह कर देख लो।

प्रेम राधा कृष्ण मीरा की तरह,
एक प्रेमी से तो मिलकर देख लो।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"" *जीवन आसान नहीं* ""
सुनीलानंद महंत
पत्थर तोड़ती औरत!
पत्थर तोड़ती औरत!
कविता झा ‘गीत’
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
नारी : एक अतुल्य रचना....!
नारी : एक अतुल्य रचना....!
VEDANTA PATEL
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
कविता
कविता
Rambali Mishra
Line.....!
Line.....!
Vicky Purohit
आसमान पर बादल छाए हैं
आसमान पर बादल छाए हैं
Neeraj Agarwal
"सफर,रुकावटें,और हौसले"
Yogendra Chaturwedi
मेरी जिंदगी सजा दे
मेरी जिंदगी सजा दे
Basant Bhagawan Roy
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
2495.पूर्णिका
2495.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक ही तारनहारा
एक ही तारनहारा
Satish Srijan
विषय – मौन
विषय – मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
विरह वेदना फूल तितली
विरह वेदना फूल तितली
SATPAL CHAUHAN
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
दुआएं
दुआएं
Santosh Shrivastava
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
ऐंचकताने    ऐंचकताने
ऐंचकताने ऐंचकताने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*प्रणय प्रभात*
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
New Love
New Love
Vedha Singh
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
डा गजैसिह कर्दम
Loading...