Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2016 · 1 min read

” जिंदगी में जहर नहीं होता “

?? गजल ??
?????????
बेवफा तू अगर नहीं होता ।
जिंदगी में जहर नहीं होता ।

मैं भी रुसवा तुझे ही कर देता ।
आपका यदि शहर नहीं होता ।

मिल भी जाये अगर तुम्हे फिर से ।
भूल जाना असर नहीं होता ।

गैर को कब तलक रिझाओगे ।
जा रहे अब सबर नहीं होता ।

आप ख्वाबो में ही सजाते यदि ।
ताज यूं खण्डहर नहीं होता ।

थोड़ी शक्ती जो हुक्मरां करते ।
इस तरह यूँ गदर नहीं होता ।

छोड़ देते नहीं वतन तुम पे ।
कोई भी दर बदर नहीं होता ।
?????????
? वीर पटेल ?

278 Views
You may also like:
बेदर्द -------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
#होई_कइसे_छठि_के_बरतिया-----?? (मेलोडी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बरसात और तुम
Sidhant Sharma
२४२. पर्व अनोखा
MSW Sunil SainiCENA
वक्र यहां किरदार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ ईश्वरीय संकेत
*Author प्रणय प्रभात*
घर का ठूठ2
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मोह....
Rakesh Bahanwal
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं जा रहा हूँ साथ तेरा छोड़कर
gurudeenverma198
तड़फ
Harshvardhan "आवारा"
स्थानांतरण
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️आसमाँ के परिंदे ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
क़ौल ( प्रण )
Shyam Sundar Subramanian
✍️यहाँ सब अदम है...
'अशांत' शेखर
रूह पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बेशक
shabina. Naaz
अब रुक जाना कहां है
कवि दीपक बवेजा
कुछ गङबङ है!!
Dr. Nisha Mathur
धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती वसूली क्यों ?
Deepak Kohli
दिला दअ हो अजदिया
Shekhar Chandra Mitra
Writing Challenge- बुद्धिमत्ता (Intelligence)
Sahityapedia
RV Singh
Mohd Talib
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
आंख से आंख मिलाओ तो मजा आता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*चली नदी में नाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
मुक्ती
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
पुस्तक समीक्षा-----
राकेश चौरसिया
Loading...