Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 27, 2016 · 1 min read

” जिंदगी में जहर नहीं होता “

?? गजल ??
?????????
बेवफा तू अगर नहीं होता ।
जिंदगी में जहर नहीं होता ।

मैं भी रुसवा तुझे ही कर देता ।
आपका यदि शहर नहीं होता ।

मिल भी जाये अगर तुम्हे फिर से ।
भूल जाना असर नहीं होता ।

गैर को कब तलक रिझाओगे ।
जा रहे अब सबर नहीं होता ।

आप ख्वाबो में ही सजाते यदि ।
ताज यूं खण्डहर नहीं होता ।

थोड़ी शक्ती जो हुक्मरां करते ।
इस तरह यूँ गदर नहीं होता ।

छोड़ देते नहीं वतन तुम पे ।
कोई भी दर बदर नहीं होता ।
?????????
? वीर पटेल ?

237 Views
You may also like:
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
झूला सजा दो
Buddha Prakash
Loading...