Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया

जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ न रह गया
कहीं ख्वाब रह गए कहीं अरमान रह गया
जिंदगी तेरे सफर में………..

बचपन था खुशनुमा वो खुशियाँ बटोरते थे
प्रवाह नहीं थी कोई क्या-क्या ना तोड़ते थे
सपनों भरा वो बचपन गुमनाम रह गया
कहीं ख्वाब रह गए……….

जवानी कहीं खो गई मोहब्बत की चाह में
क्या पता था ये गुजरेगी चाहत की आह में
टूटे दिलों का महबूब को पैगाम रह गया
कहीं ख्वाब रह गए…………

उम्र का तकाजा हैं ये लड़खड़ाते हुए कदम
जीवन है क्या ये जाना और टूटे सभी भ्रम
“V9द” ये बुढापा जैसे मेहमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गए…………

स्वरचित
V9द चौहान

1 Like · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*चाटुकार*
*चाटुकार*
Dushyant Kumar
23/91.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/91.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लेखनी का सफर
लेखनी का सफर
Sunil Maheshwari
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
"नया साल में"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क़ में ज़हर की ज़रूरत नहीं है बे यारा,
इश्क़ में ज़हर की ज़रूरत नहीं है बे यारा,
शेखर सिंह
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
हाईकु
हाईकु
Neelam Sharma
#शुभ_दीपोत्सव
#शुभ_दीपोत्सव
*प्रणय प्रभात*
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
डगर जिंदगी की
डगर जिंदगी की
Monika Yadav (Rachina)
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
होली पर
होली पर
Dr.Pratibha Prakash
बहना तू सबला हो🙏
बहना तू सबला हो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*दादा जी (बाल कविता)*
*दादा जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
अकेले मिलना कि भले नहीं मिलना।
अकेले मिलना कि भले नहीं मिलना।
डॉ० रोहित कौशिक
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...