Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

जिंदगी के कुछ कड़वे सच

जिंदगी के कुछ कड़वे सच
जिंदगी में कभी भी किसी को
बेकार मत समझो क्योंकि
बंद घड़ी भी दिन में
दो बार सही समय बताती है ।

किसी की बुराई तलाश करने ,
वाले इंसान की मिसाल उस
मक्खी की तरह है जो सारे
खूबसूरत जिस्म को छोड़कर
केवल जख्म पर ही बैठती है ।

टूट जाता है गरीबी में
वो रिश्ता जो खास होता है
हजारों यार बनते हैं जब
पैसा यपास होता है।

मुस्कुरा कर देखो तो
सारा जहां रंगीन लगता है
वरना भीगी पलकों से तो आईना
भी धुंधला नजर आता है
बुरे दिनों का एक अच्छा फायदा है
बुरे वक्त मे ही अच्छे रिश्तो की परख होती है।

जिंदगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करना
खुद अच्छे बन जाओ आपसे मिलकर
शायद किसी की तलाश पूरी हो जाए।

जब हम बोलना नहीं जानते थे तो
हमारे बोले बिना मां
हमारी बातों को समझ जाती थी
और आज हम हर बात पर कहते हैं छोड़ो मां आप नहीं समझोगी।

इंसान की तरह बोलना ना आए तो
जानवर की तरह मौन रहना चाहिए
ये सोच है हम इंसानों की कि एक अकेला इंसान क्या कर सकता है पर देख जरा सूरज को अकेला ही तो चमकता है।
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

1 Like · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3084.*पूर्णिका*
3084.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अछूत
अछूत
Lovi Mishra
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
Kunal Prashant
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
ruby kumari
Falling Out Of Love
Falling Out Of Love
Vedha Singh
वो ख्वाब
वो ख्वाब
Mahender Singh
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
अनपढ़ प्रेम
अनपढ़ प्रेम
Pratibha Pandey
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
Aadarsh Dubey
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
निज धर्म सदा चलते रहना
निज धर्म सदा चलते रहना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
गुरु के पद पंकज की पनही
गुरु के पद पंकज की पनही
Sushil Pandey
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हौसले के बिना उड़ान में क्या
हौसले के बिना उड़ान में क्या
Dr Archana Gupta
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Rashmi Sanjay
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
पूर्वार्थ
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"आँख और नींद"
Dr. Kishan tandon kranti
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
#चिंतन
#चिंतन
*प्रणय प्रभात*
Loading...