Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2019 · 1 min read

जिंदगी और मौत (गजल )

अपना इख्तियार कहाँ होता है जिंदगी और मौत पर ,
नादां इंसान यूँ ही हक़ जताता है जाने क्यों इन पर ।
एक जगाए नन्ही आँखों को मासूम ख्वाब लिए ,
दूसरी सुला दे सदा के लिए सारे ख्वाब छिन कर ।
न अपने आने की खुशी,ना अपने चले जाने का गम ,
आए भी थे खामोशी लिए,जाएंगे खामोशी ओढ़कर ।
आए थे जब तब कौन सी दामन में हमारे जेब थी ,
अब जाएंगे भी सब छोडकर ,सारी जेबें खाली कर ।
क्या हुस्न ,क्या जवानी और क्या जहां की रोशनाई ,
पहले भी होश नहीं था औ अब जा रहे हैसब भूल कर ।
रिश्ते -नाते हैं सब बस एक इस जिंदगी तक के लिए ,
चिराग के बुझते ही चलना है हमें एक तन्हा सफर पर ।
जिन घने अँधेरों से आए थे आखिर में उन्हीं में खो गए ,
नहीं रह पाते हमारे कदमों के निशां इन अंजान राहों पर ।

1 Like · 2 Comments · 742 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
आजा आजा रे कारी बदरिया
आजा आजा रे कारी बदरिया
Indu Singh
सबूत ना बचे कुछ
सबूत ना बचे कुछ
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मै शहर में गाँव खोजता रह गया   ।
मै शहर में गाँव खोजता रह गया ।
CA Amit Kumar
मरहटा छंद
मरहटा छंद
Subhash Singhai
((((((  (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
(((((( (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
Rituraj shivem verma
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
पिछले पन्ने 7
पिछले पन्ने 7
Paras Nath Jha
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
एक समय के बाद
एक समय के बाद
हिमांशु Kulshrestha
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
तुम क्या हो .....
तुम क्या हो ....." एक राजा "
Rohit yadav
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
डॉक्टर रागिनी
2702.*पूर्णिका*
2702.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
*यह सही है मूलतः तो, इस धरा पर रोग हैं (गीत)*
*यह सही है मूलतः तो, इस धरा पर रोग हैं (गीत)*
Ravi Prakash
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
Chunnu Lal Gupta
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU SHARMA
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Kumar lalit
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
ख़्याल
ख़्याल
Dr. Seema Varma
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
Introduction
Introduction
Adha Deshwal
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
Loading...