Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 2 min read

जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar

[हमारे समय के जरूरी एक कवि, प्रसिद्ध कवि विष्णु नागर की अद्भुत कविता, हर समय, हर समाज को संबोधित करती हुई। सच्चे अर्थों में कालजयी रचना]

जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है
उसी से नौकरी मिलती है, पदोन्नति होती है
मालिक या अफसर का विश्वास हासिल होता है
दुकान चलती है
एडजस्टमेंट करनेवालों की जिंदगी में
तूफान नहीं आते, बाढ़ नहीं आती
आ भी जाए तो नुक्सान दूसरों का होता है

एडजस्टमेंट करना भला – शरीफ होने का लक्षण है
चरित्र का प्रमाण है
औरत का सुहाग है, तलाक से बचने का शर्तिया उपाय है
एडजस्टमेंट से ही सत्ता मिलती है, देर तक टिकती है
पैसा बनता है, लोकप्रियता मिलती है
हार्टअटैक और ब्रेन हैमरेज से बचने के लिए
डॉक्टर इसकी सलाह दिया करते हैं

एडजस्टमेंट करके चलो
तो दुनिया में अपनी तूती बोलती है
एडजस्टमेंट कर लो तो कुछ भी अश्लील
कुछ भी अकरणीय नहीं रह जाता
कुछ भी बेचैन-परेशान नहीं करता
कुछ भी, कैसे भी करना धर्म सरीखा लगता है
हत्यारे सज्जन पुरुषों में तब्दील हुए दीखते हैं
आदरणीय होकर फादरणीय हो जाते हैं
हक की लड़ाई नक्सलवाद लगने लगती है
नफरत फैलाना संस्कृति के प्रचार-प्रसार का
अभिन्न अंग मालूम देता है

एडजस्टमेंट समय की पुकार है
शास्त्रों का सार है
एडजस्टमेंट करना सेल्फी लेने जितना आसान है
एडजस्टमेंट हर शहर का महात्मा गाँधी मार्ग है
एडजस्टमेंट कंडोम के समान है
जिसे पहनकर अपने को ब्रह्मचारी सिद्ध करना आसान है
एडजस्टमेंट 2002 के बाद का
सत्य है, शिव है, सुंदर है
एडजस्टमेंट का पुरस्कार मिलकर रहता है
भारत माँ के सच्चे पुत्र होने का सौभाग्य मिलता है
और कुछ हो न हो, मगर, देश का विकास होकर रहता है
अरे विकास, विनाश नहीं, विकास!
——————

Language: Hindi
1 Like · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नारी है नारायणी
नारी है नारायणी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
Harminder Kaur
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
The_dk_poetry
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
जाना ही होगा 🙏🙏
जाना ही होगा 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़माने से मिलकर ज़माने की सहुलियत में
ज़माने से मिलकर ज़माने की सहुलियत में
शिव प्रताप लोधी
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
23/165.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/165.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*प्रणय प्रभात*
*भॅंवर के बीच में भी हम, प्रबल आशा सॅंजोए हैं (हिंदी गजल)*
*भॅंवर के बीच में भी हम, प्रबल आशा सॅंजोए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
मुझे लगता था —
मुझे लगता था —
SURYA PRAKASH SHARMA
"लोभ"
Dr. Kishan tandon kranti
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"If my energy doesn't wake you up,
पूर्वार्थ
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
फटा ब्लाउज ....लघु कथा
फटा ब्लाउज ....लघु कथा
sushil sarna
.........?
.........?
शेखर सिंह
Loading...