Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 1 min read

जान लेती है कसम से ये नज़ाकत प्यार की

जान लेती है कसम से ये नज़ाकत प्यार की
खेलना जुल्फों से’ तेरा है कयामत प्यार की।।

हो रहे मदहोश सब क्यूँ देखकर आवो-हवा
ग़ौर कर मगरूर इंसा है शरारत प्यार की।।

चोट देखो कर रहे सब जख़्म मेरे देखकर
मैं हूँ’ नादां दे रहा उनको हिदायत प्यार की।।

नफ़रतों की आग में सब खाक है अब हो रहा
रो रहा क्यूँ आज इंसा है शिकायत प्यार की।।

गर्दिशों में हैं सितारे ऐ “परिंदे” मान ले
मौत ने मज़मा लगाया या बगावत प्यार की।।

पंकज शर्मा “परिंदा”

1 Like · 1 Comment · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
Ranjeet kumar patre
आंखें
आंखें
Ghanshyam Poddar
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
डी. के. निवातिया
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
सितारे हरदम साथ चलें , ऐसा नहीं होता
सितारे हरदम साथ चलें , ऐसा नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
2870.*पूर्णिका*
2870.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गर गुलों की गुल गई
गर गुलों की गुल गई
Mahesh Tiwari 'Ayan'
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
VINOD CHAUHAN
*अध्याय 5*
*अध्याय 5*
Ravi Prakash
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
■ नेशनल ओलंपियाड
■ नेशनल ओलंपियाड
*प्रणय प्रभात*
* जिन्दगी *
* जिन्दगी *
surenderpal vaidya
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
Manisha Manjari
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
नारी जाति को समर्पित
नारी जाति को समर्पित
Juhi Grover
जो दर्द किसी को दे, व्योहार बदल देंगे।
जो दर्द किसी को दे, व्योहार बदल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
"पत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
ना कुछ जवाब देती हो,
ना कुछ जवाब देती हो,
Dr. Man Mohan Krishna
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
सपने कीमत मांगते है सपने चाहिए तो जो जो कीमत वो मांगे चुकने
सपने कीमत मांगते है सपने चाहिए तो जो जो कीमत वो मांगे चुकने
पूर्वार्थ
**कविता: आम आदमी की कहानी**
**कविता: आम आदमी की कहानी**
Dr Mukesh 'Aseemit'
चाहे लाख महरूमियां हो मुझमे,
चाहे लाख महरूमियां हो मुझमे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...