Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2016 · 1 min read

जान भी और इमान भी पैसा

हर विकार की जड़ है पैसा , हर मुश्किल का इलाज है पैसा ।
क्यों माता ने खोया बेटा ,क्यों नहीँ काम आया यह पैसा ॥
अस्पताल और चिकित्सकों का यह देखो व्यवहार है कैसा ।
नहीँ कर रहे यदि इलाज वो क्योंकि जमा नहीँ हुआ पैसा ॥
दर्जा मिला भगवान का जिसको क्या उसका भगवान है पैसा ।
जीवनदाता ही लें बैठा , जान बताओ नियम यॆ कैसा ॥
समय बहुत बलवान है बंधु समय के आगे कुछ नहीँ पैसा ।
समय की खातिर जान तो क्या ईमान भी लें लेता है पैसा ॥

विजय बिज़नोरी

Language: Hindi
3 Likes · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
मलूल
मलूल
Satish Srijan
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
सफर दर-ए-यार का,दुश्वार था बहुत।
सफर दर-ए-यार का,दुश्वार था बहुत।
पूर्वार्थ
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सुबह का भूला
सुबह का भूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपने प्रयासों को
अपने प्रयासों को
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ਧੱਕੇ
ਧੱਕੇ
Surinder blackpen
■ स्वाभाविक बात...
■ स्वाभाविक बात...
*Author प्रणय प्रभात*
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
धर्मनिरपेक्ष मूल्य
धर्मनिरपेक्ष मूल्य
Shekhar Chandra Mitra
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
3196.*पूर्णिका*
3196.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
सत्य कुमार प्रेमी
रंग उकेरे तूलिका,
रंग उकेरे तूलिका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Poem on
Poem on "Maa" by Vedaanshii
Vedaanshii Vijayvargi
दो अक्टूबर
दो अक्टूबर
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे  मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
DrLakshman Jha Parimal
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
होली पर
होली पर
Dr.Pratibha Prakash
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
कवि दीपक बवेजा
*मनुज ले राम का शुभ नाम, भवसागर से तरते हैं (मुक्तक)*
*मनुज ले राम का शुभ नाम, भवसागर से तरते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...