Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2017 · 1 min read

जाग उठो चिंगारी बनकर,आग लगा दो पानी मे

जाग उठो चिगांरी बनकर,
आग लगा दो पानी मे|
क्यो जकड़े हो लचारी मे,
क्या कर रहे जवानी मेे||

नाग नहा रहे अनपड़ नेता,
क्यो जीते नादानी मे|
ब्याकुल बैठी सारी जनता,
लगे सरकार बनानी मे||

आजादी पा करके भी हम,
क्यो जकड़े है गुलामी मे|
जगो जगो जाग जाओ अब,
क्यो मरते खीचा तानी मे||

पुरखो ने थी जान गवाई,
भारत की आजादी मे|
तुम भी दे दो इक कुर्वानी,
मत जकड़ो इस गुलामी मे||

सरकार तो नाच नचावे
तुम क्यो मरो दिवानी मे|
क्यो जकड़े हो लचारी मे
क्यो मर रहे जवानी मे||
✍कृष्णकांत गुर्जर

Language: Hindi
8 Likes · 551 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
"एक नया सवेरा होगा"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
सिखला दो न पापा
सिखला दो न पापा
Shubham Anand Manmeet
जिंदगी को खुद से जियों,
जिंदगी को खुद से जियों,
जय लगन कुमार हैप्पी
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
महफ़िल जो आए
महफ़िल जो आए
हिमांशु Kulshrestha
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
Neelam Sharma
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
मुद्दा
मुद्दा
Paras Mishra
हमने सुना था के उनके वादों में उन कलियों की खुशबू गौर से पढ़
हमने सुना था के उनके वादों में उन कलियों की खुशबू गौर से पढ़
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
पानी की खातिर
पानी की खातिर
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
जनता नहीं बेचारी है --
जनता नहीं बेचारी है --
Seema Garg
(वक्त)
(वक्त)
Sangeeta Beniwal
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
Smriti Singh
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
Basant Bhagawan Roy
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
एक फूल खिला आगंन में
एक फूल खिला आगंन में
shabina. Naaz
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
सत्य कुमार प्रेमी
Are you strong enough to cry?
Are you strong enough to cry?
पूर्वार्थ
Loading...