Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

ज़िन्दगी का सफ़र

ज़िन्दगी का सफ़र है ये,
जो चलता रहता है बेसबरी से।
हर मोड़ पर नया चेहरा,
कुछ खोते हैं, कुछ पाते हैं।

हर उड़ान देती है नई राह,
जो जाने कहाँ ले जाएगी आगे।
सफ़र में मिलते हैं नए दोस्त,
कुछ छोड़ जाते हैं यादों के एक झोंके।

जीवन का सफ़र है ये,
जो तो कभी भी खत्म नहीं होता।
चलते रहो, खुश रहो,
हर दिन जीतो, ना हारो।

लम्हों की खुशी को अपने दिल में समेटो,
ज़िन्दगी की ये अदा तुम सीखो।
हर पल का लूटो ज़िन्दगी से मज़ा,
खुश रहो, मुस्कुराते रहो बस ऐसा ही चलते रहो।

जीवन के संघर्ष में हम डूबते हैं कभी,
पर हमेशा आगे बढ़ते हैं फिर से।
ये जीवन का सफ़र है बेहद खूबसूरत,
जो जीते हैं उन्हीं का नाम होता है इतिहास में सुनहरा।

ज़िन्दगी का सफ़र है ये,
जो चलता रहता है बेसबरी से।
हर मोड़ पर नया चेहरा,
कुछ खोते हैं, कुछ पाते हैं।

हर पल जीतो तुम खुशियों को,
हमेशा रहो तुम सफलताओं के सम्राट।
ज़िन्दगी का सफ़र है ये,
जो चलता रहता है बेसबरी से।

2 Likes · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sidhartha Mishra
View all
You may also like:
टन टन बजेगी घंटी
टन टन बजेगी घंटी
SHAMA PARVEEN
बेख़बर
बेख़बर
Shyam Sundar Subramanian
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
Sunil Maheshwari
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
Umender kumar
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
कभी अपनेे दर्दो-ग़म, कभी उनके दर्दो-ग़म-
कभी अपनेे दर्दो-ग़म, कभी उनके दर्दो-ग़म-
Shreedhar
!.........!
!.........!
शेखर सिंह
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
Surinder blackpen
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
सोच...….🤔
सोच...….🤔
Vivek Sharma Visha
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
gurudeenverma198
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
आफताब भी ख़ूब जलने लगा है,
आफताब भी ख़ूब जलने लगा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मां की महत्ता
मां की महत्ता
Mangilal 713
Radiance
Radiance
Dhriti Mishra
तस्मात् योगी भवार्जुन
तस्मात् योगी भवार्जुन
सुनीलानंद महंत
मां का हृदय
मां का हृदय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
फुर्सत नहीं है
फुर्सत नहीं है
Dr. Rajeev Jain
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
*मुहर लगी है आज देश पर, श्री राम के नाम की (गीत)*
*मुहर लगी है आज देश पर, श्री राम के नाम की (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...