Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

ज़िंदगी के मर्म

सुख-दु:ख की धूप छांव है
ये ज़िंदगी ,

कभी सूरज सी प्रचंड ,
कभी चंद्रमा सी शांत है ,
ये ज़िंदगी ,

कभी हर्ष का उत्कर्ष ,
कभी कल्पित धारणा का उत्सर्ग है
ये ज़िंदगी ,

कभी अकिंचन निरीह सी,
कभी प्रखर निर्भीक सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी अहं बोधग्रस्त ,
कभी आत्म- चिंतनयुक्त सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी हताशाओं का सागर ,
कभी आशाओं का आकाश है
ये ज़िंदगी ,

कभी अक्षम पराधीन सी ,
कभी सक्षम स्वाधीन सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी द्वंद का चक्र ,
कभी सरल सहज अर्थ लिए सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी छद्मवेश लिए ,
कभी यथार्थ परिवेश लिए सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी अज्ञान का निष्कर्ष ,
कभी संज्ञान मर्म लिए सी है
ये ज़िदगी।

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
*
*"बीजणा" v/s "बाजणा"* आभूषण
लोककवि पंडित राजेराम संगीताचार्य
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
अकेले आए हैं ,
अकेले आए हैं ,
Shutisha Rajput
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
कहां गये हम
कहां गये हम
Surinder blackpen
23/186.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/186.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपना अंजाम फिर आप
अपना अंजाम फिर आप
Dr fauzia Naseem shad
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सच और सोच
सच और सोच
Neeraj Agarwal
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
J
J
Jay Dewangan
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
ruby kumari
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
VINOD CHAUHAN
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
वट सावित्री अमावस्या
वट सावित्री अमावस्या
नवीन जोशी 'नवल'
*जिंदगी भर धन जुटाया, बाद में किसको मिला (हिंदी गजल)*
*जिंदगी भर धन जुटाया, बाद में किसको मिला (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी
जिन्दगी
Ashwini sharma
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
■ कौशल उन्नयन
■ कौशल उन्नयन
*Author प्रणय प्रभात*
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
डा गजैसिह कर्दम
Loading...