Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

ज़रूरतमंद की मदद

कर मदद उसकी
दिल से दुआ मिलेगी
देखकर मुस्कुराता उसको
जीने की वजह मिलेगी

है हताश वो ज़िंदगी से
लुट गया है सबकुछ उसका
छोड़ दी है अब आस उसने
अब तू ही बन जा सहारा उसका

कूड़े के ढेर में ढूँढ रहा कुछ
गली के कुत्तों से भिड़ रहा है
देखो क्या हो गई हालत उसकी
कहाँ जाकर ख़ाना ढूँढ रहा है

लाज़मी है ये आंसू
उसकी आँखों में आज
मिलना चाहिए कोई तो
इन आंसुओं को पोंछ दे आज

उसके बिखरे बाल, फटे कपड़े
कर रहे है बयान हालत उसकी
बढ़ा मदद का हाथ, है सही समय
संवर जाएगी तक़दीर उसकी

उजड़ी ज़िंदगी को बसाना
है सबसे पुण्य का कर्म यारों
है नहीं मदद ये एक शक्स की
पूरे परिवार का भविष्य संवर जाएगा यारों

न चार धाम, न ही हज
जाने की ज़रूरत पड़ेगी तुमको
उस शक्स की ही नहीं
रब की भी दुआ मिलेगी तुमको।

8 Likes · 1 Comment · 1491 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मन वैरागी हो गया
मन वैरागी हो गया
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3357.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3357.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
दो अक्टूबर
दो अक्टूबर
नूरफातिमा खातून नूरी
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"मेरी नज्मों में"
Dr. Kishan tandon kranti
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उसका-मेरा साथ सुहाना....
उसका-मेरा साथ सुहाना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसान भैया
किसान भैया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
Mukesh Kumar Sonkar
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
Loading...