Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2016 · 1 min read

जश्ने आजादी

जश्ने आजादी

ये कैसा जश्ने आजादी है,
एक दिन की देशभक्ति है
एक दिन का दिखावा है
सन्देशों की तो बाढ है
ड्राई डे होने का अफसोस है
महानगर वासी निकल पड़े है
दो दिन छुट्टी उनके पास है
मल्टीनेशनल कंपनी वाले
एक छुट्टी मरने से उदास है,
दिनभर पतंगबाजी करके,
शाम को पार्टी का इन्तजाम है
काल्पनिक दुनिया में देशभक्त है
वास्तव में सब बकवास है,
मेरे देशवासी कहते हैं
देश में भ्रष्टाचार है
गरीबी है तंगहाली है,
सड़कों की बदहाली है,
गंदगी हर ओर फैली है,
इसका कौन जिम्मेदार है
करों की चोरी तुम करते हो,
टेबल के नीचे से जेब भरते हो
फिर बड़ी बड़ी बातें करते हो
विदेशों से कैसे तुलना करते हो,
विदेश जाकर तुम नियमों का पालन करते हो,
देश में खुलकर नियमों की अनदेखी करते हो,
खादी पहनना देशभक्ति की पहचान नही है
गांधी टोपी भी देशभक्ति की पहचान नही है
पार्टी भक्ति भी देशभक्ति की पहचान नही है
राष्ट्रीय पर्वों पर जो एहसास होता है
जो जज्बा आभासी दुनिया में दिखता है
उतरे वास्तविकता के धरातल पर
तब कुछ बात बने
जश्ने आजादी सम्पूर्ण बने ।

” सन्दीप कुमार “

Language: Hindi
358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
संतुलित रहें सदा जज्बात
संतुलित रहें सदा जज्बात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोतियाबिंद
मोतियाबिंद
Surinder blackpen
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
Sarfaraz Ahmed Aasee
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
■ शर्मनाक प्रपंच...
■ शर्मनाक प्रपंच...
*Author प्रणय प्रभात*
बुढ्ढे का सावन
बुढ्ढे का सावन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
Dr MusafiR BaithA
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
*अयोध्या धाम पावन प्रिय, जगत में श्रेष्ठ न्यारा है (हिंदी गज
*अयोध्या धाम पावन प्रिय, जगत में श्रेष्ठ न्यारा है (हिंदी गज
Ravi Prakash
"मछली"
Dr. Kishan tandon kranti
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
समय
समय
Dr.Priya Soni Khare
2782. *पूर्णिका*
2782. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आखिरी अल्फाजों में कहा था उसने बहुत मिलेंगें तेरे जैसे
आखिरी अल्फाजों में कहा था उसने बहुत मिलेंगें तेरे जैसे
शिव प्रताप लोधी
हुनर है मुझमें
हुनर है मुझमें
Satish Srijan
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
Loading...