Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

जल

जल है तो धरा है, वृक्ष है,
वायु है, सब अन्न है ।
ये सब है तो जीव हैं
सृष्टि सर्व सम्पन्न है ।
हमारी संस्कृति बताती
जल वरुण देव का प्रसाद है ।
और हम जानते है
प्रसाद का एक कण भी
संजो लिया जाये, व्यर्थ न हो ।
आओं लौट चले स्वसंस्कृति की ओर
हमारा घर है वो
हमारी हर आपदा से हमें
माँ की तरह उबार लेगी ।
बहुत भटक लिए इधर उधर
अब स्वसत्ता स्वीकारें ।
बहुत दोहन कर चुके प्रकृति का
फिर से उसे सन्मान दे संवारें ।
**************************

5 Likes · 1 Comment · 221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
मिसाइल मैन को नमन
मिसाइल मैन को नमन
Dr. Rajeev Jain
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
सेवा कार्य
सेवा कार्य
Mukesh Kumar Rishi Verma
नया से भी नया
नया से भी नया
Ramswaroop Dinkar
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
2604.पूर्णिका
2604.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"" *नारी* ""
सुनीलानंद महंत
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
Neelam Sharma
श्राद्ध पक्ष के दोहे
श्राद्ध पक्ष के दोहे
sushil sarna
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
Kumar lalit
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
तुम आ जाते तो उम्मीद थी
तुम आ जाते तो उम्मीद थी
VINOD CHAUHAN
*उड़ीं तब भी पतंगें जब, हवा का रुख नहीं मिलता (मुक्तक)*
*उड़ीं तब भी पतंगें जब, हवा का रुख नहीं मिलता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कहानी हर दिल की
कहानी हर दिल की
Surinder blackpen
मेरा लोकतंत्र महान -समसामयिक लेख
मेरा लोकतंत्र महान -समसामयिक लेख
Dr Mukesh 'Aseemit'
**मातृभूमि**
**मातृभूमि**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
शून्य से अनंत
शून्य से अनंत
The_dk_poetry
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी में सिर्फ हम ,
जिंदगी में सिर्फ हम ,
Neeraj Agarwal
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वो इश्क़ अपना छुपा रहा था
वो इश्क़ अपना छुपा रहा था
Monika Arora
"सदियों का सन्ताप"
Dr. Kishan tandon kranti
दीवाली
दीवाली
Mukesh Kumar Sonkar
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
shabina. Naaz
Loading...