Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

जल से सीखें

गिरता हिम गिरि से झर,झर,झर
किन्तु हार कर कभी न रुकता ।
कंकड, पत्थर सब सहता वो
किन्तु मधुरता कभी न तजता ।
सीखो जल से जीने का ढंग
कैसे गिरने पर भी बढ़ना है ?
कोई कितनी कटुता घोले
कैसे निज को मृदु रखना है ?
जल राशि अपार दिखी जब भी
खुद को दुकूल में बांध लिया ।
प्रभुता के मद मे नही रुका
नित करता पथ विस्तार चला ।
सदियों से सूर्य है तपा रहा
पर तजी कभी न शीतलता ।
कठिन पहाड़ भी काट गयी
इसकी सरल मृदुल सी कोमलता ।

6 Likes · 4 Comments · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Saraswati Bajpai

You may also like:
सजल
सजल
Dr. Sunita Singh
धर्मग्रंथों की समीक्षा
धर्मग्रंथों की समीक्षा
Shekhar Chandra Mitra
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आई होली
आई होली
Kavita Chouhan
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
Omprakash Sharma
इज़हार ज़रूरी है
इज़हार ज़रूरी है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️माँ ✍️
✍️माँ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
वैभव बेख़बर
दिन भी बहके से हुए रातें आवारा हो गईं।
दिन भी बहके से हुए रातें आवारा हो गईं।
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम कौतुक-382💐
💐प्रेम कौतुक-382💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
याद आते हैं वो
याद आते हैं वो
रोहताश वर्मा मुसाफिर
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
'अशांत' शेखर
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
😜 बचपन की याद 😜
😜 बचपन की याद 😜
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"एक बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम की ऊँची चार
Seema Verma
बंधे धागे प्रेम के तो
बंधे धागे प्रेम के तो
shabina. Naaz
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या  है
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या है
Anil Mishra Prahari
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Nav Lekhika
गीत शब्द
गीत शब्द
सूर्यकांत द्विवेदी
इस तरह बदल गया मेरा विचार
इस तरह बदल गया मेरा विचार
gurudeenverma198
सौ सदियाँ
सौ सदियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
परोपकार
परोपकार
Raju Gajbhiye
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धरती का बेटा
धरती का बेटा
Prakash Chandra
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
Loading...