Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

जल से सीखें

गिरता हिम गिरि से झर,झर,झर
किन्तु हार कर कभी न रुकता ।
कंकड, पत्थर सब सहता वो
किन्तु मधुरता कभी न तजता ।
सीखो जल से जीने का ढंग
कैसे गिर कर भी बढ़ना है ?
कोई कितनी कटुता घोले
कैसे निज को मृदु रखना है ?
जल राशि अपार दिखी जब भी
खुद को दुकूल में बांध लिया ।
प्रभुता के मद मे नही रुका
नित करता पथ विस्तार चला ।
सदियों से सूर्य है तपा रहा
पर तजी कभी न शीतलता ।
कठिन पहाड़ भी काट गयी
इसकी सरल मृदुल सी कोमलता ।

6 Likes · 4 Comments · 361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
प्रभु संग प्रीति
प्रभु संग प्रीति
Pratibha Pandey
-- प्यार --
-- प्यार --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
Rj Anand Prajapati
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
Dr Manju Saini
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
दूषित न कर वसुंधरा को
दूषित न कर वसुंधरा को
goutam shaw
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*प्रणय प्रभात*
मरने के बाद करेंगे आराम
मरने के बाद करेंगे आराम
Keshav kishor Kumar
31/05/2024
31/05/2024
Satyaveer vaishnav
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
"मनुष्य की प्रवृत्ति समय के साथ बदलना शुभ संकेत है कि हम इक्
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
अगर कभी मिलना मुझसे
अगर कभी मिलना मुझसे
Akash Agam
*पेड़*
*पेड़*
Dushyant Kumar
What Was in Me?
What Was in Me?
Bindesh kumar jha
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
"जी लो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
कर लो कर्म अभी
कर लो कर्म अभी
Sonam Puneet Dubey
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Most of the time, I am the kind of person who tries her best
Most of the time, I am the kind of person who tries her best
पूर्वार्थ
जन्म से
जन्म से
Santosh Shrivastava
अनुप्रास अलंकार
अनुप्रास अलंकार
नूरफातिमा खातून नूरी
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
"कलम की अभिलाषा"
Yogendra Chaturwedi
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
gurudeenverma198
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...