Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 2 min read

जलियांवाला बाग

जलियांवाला बाग की घटना, दहला देने वाली थी
अंग्रेजी शासन की क़ूरता, बर्बर से बर्बर काली थी
निहत्थे लोगों पर गोलीबारी, शर्मसार करने वाली थी
मानवता पर दाग थी ये, गोरों की हरकत काली थी
छद्म सभ्य अंग्रेजों की करतूतें, दुनिया को हिलाने वाली थी
आजादी की मांग दबाने,रौलट एक्ट बनाया था
सभा जुलूस और प्रेस पर,पावंदी जो लाया था
१३ अप्रैल १९१९ को,बैशाखी का शुभ दिन था
रौलट एक्ट के विरोध को, जलियांवाला बाग में आयोजन था
खुशी खुशी उस अवसर पर, हजारों सपूत जुटे थे
बूढ़े बच्चे नौजवान, स्त्रियों के भी कदम बढ़े थे
देश प्रेमियों को दहलाने की, अंग्रेजों ने ठानी थी
अंग्रेज अफसर ड्वायर ने,जनरल डायर की तैनाती की
जनरल डायर ने बैशाखी के दिन, भीषण नर संहार किया
निर्दोष निहत्थे नागरिकों स्त्री बच्चों को तक भून दिया
चारों तरफ से चल रहीं थीं गोलियां, नहीं भागने का रास्ता था
क़ूर फौज हत्यारा डायर,फायर पर फायर करता था
उस हत्यारे ने क ई राउंड गोलियां, भीड़ पर बरसाईं थीं
जान बचाने लोगों ने,बाग के कुएं में छलांग लगाई थी
पट गया कुआं भी लाशों से,कई सौ ने जान गंवाई थी
जान बचाने लोग वाग की, दीवारों पर चढ़ जाते थे
ताबड़तोड़ फायरिंग में,टप से नीचे गिर जाते थे
बड़ा ही था भीवत्स दृष्य,चीख पुकार मची थी
मृतक और घायलों के खून से, वाग की माटी सनी पड़ी थी
नहीं कोई था पानी देने बाला, उपचार की बात कहां थी
लाशों के संग जिंदा घायल, दर्द से कराह रहे थे
पड़े रहे रात भर घायल,लोग मदद को चीख रहे थे
जो बच सकते थे घायल,वे भी लाशों में बदल गए
अंग्रेजी शासन की क़ूरता, सभी हदों को पार कर गए
उस सामूहिक नरसंहार से, आक्रोश देश में आया था
जन जन आक्रोशित हुआ देश में, क़ांति नई लाया था
जलियांवाले हत्याकांड ने, आजादी की ज्वाला भड़काई थी
सारे देश आजादी की,नई चेतना आई थी
जलियांवाला बाग में जाकर,नम आंखें हो जाती हैं
दिखते हैं गोलियों के निशान, वीरों की याद दिलाते हैं
जय हिंद

Language: Hindi
43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
पूर्वार्थ
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
इश्क की गलियों में
इश्क की गलियों में
Dr. Man Mohan Krishna
बंसत पचंमी
बंसत पचंमी
Ritu Asooja
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
शेखर सिंह
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
कवि रमेशराज
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
प्यार मेरा तू ही तो है।
प्यार मेरा तू ही तो है।
Buddha Prakash
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
Ashish shukla
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
DrLakshman Jha Parimal
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मांँ
मांँ
Neelam Sharma
जिंदगी तेरे हंसी रंग
जिंदगी तेरे हंसी रंग
Harminder Kaur
नारी की शक्ति
नारी की शक्ति
Anamika Tiwari 'annpurna '
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाकी है...!!
बाकी है...!!
Srishty Bansal
औरत का जीवन
औरत का जीवन
Dheerja Sharma
2594.पूर्णिका
2594.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
!! प्रार्थना !!
!! प्रार्थना !!
Chunnu Lal Gupta
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
Loading...