Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-378💐

जलाया गया है मुझे बहुत जलाया गया है,
फिर क्यों दिल के मकाँ में बसाया गया है,
तस्वीर डालते हो ऐसी,सुनो फरेबी हो क्या,
हमें अब तक बे-आबरू कर घुमाया गया है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
जाने के बाद .....लघु रचना
जाने के बाद .....लघु रचना
sushil sarna
हिन्दी
हिन्दी
Bodhisatva kastooriya
" बेशुमार दौलत "
Chunnu Lal Gupta
■ समझदार टाइप के नासमझ।
■ समझदार टाइप के नासमझ।
*Author प्रणय प्रभात*
शिव छन्द
शिव छन्द
Neelam Sharma
*
*"आज फिर जरूरत है तेरी"*
Shashi kala vyas
2448.पूर्णिका
2448.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कविता की महत्ता।
कविता की महत्ता।
Rj Anand Prajapati
राम आधार हैं
राम आधार हैं
Mamta Rani
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जय जगन्नाथ भगवान
जय जगन्नाथ भगवान
Neeraj Agarwal
काफी है
काफी है
Basant Bhagawan Roy
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
"जीवन का सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
Manoj Mahato
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
Surya Barman
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
*उठा जो देह में जादू, समझ लो आई होली है (मुक्तक)*
*उठा जो देह में जादू, समझ लो आई होली है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
दुष्यन्त 'बाबा'
अच्छा कार्य करने वाला
अच्छा कार्य करने वाला
नेताम आर सी
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
Loading...