Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना

जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
यही इच्छा है मेरी जिसे हरगिज ना ठुकराना
जलाना आग में ना ही………..
किसी के काम आ जाए सुनो मिट्टी की ये काया
मेरा तन सौंप देना तुम ना कोई रस्में निभाना
जलाना आग में ना ही…………
अगर अंधे को ये आंखें मिले वह देख ले दुनिया
सदा जलते रहे दीपक इन्हें हरगिज ना बुझाना
जलाना आग में ना ही…………
मेरे तन का कोई ये अंग किसी के काम आ जाए
मैं मरकर भी रहूॅ॑ जिंदा यूं बन जाऊं अफसाना
जलाना आग में ना ही…………
अगर नियती है भाग्य की जन्म लेना फ़नाह होना
मेरी मैयत पे आकर के कोई दुख ना जताना
जलाना आग में ना ही………….
वसीयत है मेरी यह देह यूॅ॑ही बस बेकार ना जाए
सुनो “V9द” ये चाहे दिलों में यूॅ॑ ही मुस्काना
जलाना आग में ना ही………….

2 Likes · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
"ये कविता ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
हे कान्हा
हे कान्हा
Mukesh Kumar Sonkar
2671.*पूर्णिका*
2671.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जनवरी में साल आया है (मुक्तक)*
*जनवरी में साल आया है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
कृष्णकांत गुर्जर
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धूल में नहाये लोग
धूल में नहाये लोग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
Dr Manju Saini
जंगल, जल और ज़मीन
जंगल, जल और ज़मीन
Shekhar Chandra Mitra
किताब
किताब
Sûrëkhâ
समय के खेल में
समय के खेल में
Dr. Mulla Adam Ali
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
माँ
माँ
The_dk_poetry
मैं चला बन एक राही
मैं चला बन एक राही
AMRESH KUMAR VERMA
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पतझड़
पतझड़
ओसमणी साहू 'ओश'
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
कुंडलिया ....
कुंडलिया ....
sushil sarna
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
Harminder Kaur
सातो जनम के काम सात दिन के नाम हैं।
सातो जनम के काम सात दिन के नाम हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
कफन
कफन
Kanchan Khanna
अकेलापन
अकेलापन
लक्ष्मी सिंह
*होय जो सबका मंगल*
*होय जो सबका मंगल*
Poonam Matia
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
Swami Ganganiya
Loading...