Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

जलते हुए सवाल

तानाशाहों को
पसंद नहीं
जलते हुए सवाल!
मैं जान-बूझकर
आफ़त मोलूं
मेरी क्या मजाल!
जिन लोगों को
जगाने के लिए
बांग देता है मुर्गा!
वही लोग तो
आख़िरकार
करते उसे हलाल!
#FreedomOfSpeech #poetry
#बहुजन #नायक #बुद्धिजीवी #शायर
#इंकलाब #बगावत #क्रांतिकारी #कवि
#विद्रोही #चेतना #हल्लाबोल

Language: Hindi
295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"संघर्ष "
Yogendra Chaturwedi
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
बाल कहानी- अधूरा सपना
बाल कहानी- अधूरा सपना
SHAMA PARVEEN
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
बुद्ध जग में पार लगा दो ।
बुद्ध जग में पार लगा दो ।
Buddha Prakash
पत्नी से अधिक पुरुष के चरित्र का ज्ञान
पत्नी से अधिक पुरुष के चरित्र का ज्ञान
शेखर सिंह
सत्य न्याय प्रेम प्रतीक जो
सत्य न्याय प्रेम प्रतीक जो
Dr.Pratibha Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इश्क़ का दामन थामे
इश्क़ का दामन थामे
Surinder blackpen
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
रामायण  के  राम  का , पूर्ण हुआ बनवास ।
रामायण के राम का , पूर्ण हुआ बनवास ।
sushil sarna
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तुम कब आवोगे
तुम कब आवोगे
gurudeenverma198
बाबर के वंशज
बाबर के वंशज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
मेहनत ही सफलता
मेहनत ही सफलता
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
किस हक से जिंदा हुई
किस हक से जिंदा हुई
कवि दीपक बवेजा
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
The_dk_poetry
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
अकेले आए हैं ,
अकेले आए हैं ,
Shutisha Rajput
Loading...