Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

जरासन्ध के पुत्रों ने

जरासन्ध के पुत्रों ने
देश को गाली बना दिया,
सम्पन्न था सब संसाधन से
खाने की थाली बना दिया।
ये कंस कुलों के कुल-घातक
कृष्णा को चोर बताते हैं,
पर बैठे हैं जिस शाख पे ये
उसको ही तोड़ चबाते हैं।
जयचंद, मीर कासिम भी हैं
उदाहरण इतिहास के पन्नों पर,
ऐसों को इन दोगलों ने,
अपना आदर्श है बना लिया।
जब निरपेक्ष किसी भी धर्म से हो
तो क्यों न सबका सम्मान करो,
किसी धर्म को गाली क्यों दो
चाहे जिसका गुणगान करो।
मान-प्रतिष्ठा अपने घर की
जाकर परदेश लुटाता तू,
तुझमें भी लहू देश का है
क्यों आगे बढ़कर न दिखलाता तू।

(c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

Language: Hindi
5 Likes · 220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
"मानद उपाधि"
Dr. Kishan tandon kranti
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
Manisha Manjari
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
*Author प्रणय प्रभात*
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
Ranjeet kumar patre
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
गुरु नानक देव जी --
गुरु नानक देव जी --
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीनी है अगर जिन्दगी
जीनी है अगर जिन्दगी
Mangilal 713
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
Neeraj Mishra " नीर "
*अक्षय तृतीया*
*अक्षय तृतीया*
Shashi kala vyas
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
Radhakishan R. Mundhra
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
पहचान धूर्त की
पहचान धूर्त की
विक्रम कुमार
नारी हो कमज़ोर नहीं
नारी हो कमज़ोर नहीं
Sonam Puneet Dubey
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
Anil chobisa
सितमज़रीफी किस्मत की
सितमज़रीफी किस्मत की
Shweta Soni
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
Ravi Prakash
धर्म की खिचड़ी
धर्म की खिचड़ी
विनोद सिल्ला
ध्रुव तारा
ध्रुव तारा
Bodhisatva kastooriya
सत्य असत्य से कभी
सत्य असत्य से कभी
Dr fauzia Naseem shad
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
2566.पूर्णिका
2566.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...