Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

जय महादेव

जै महेश, वीरभद्र, वैद्यनाथ, पार्य, शर्व
धरा धरेन्द्र नंदिनीपती शशांक शेखरा
जयतु, जयतु महादेव, सोमनाथ शंकरा…

मस्तक पर अग्नि धार, काया पर भस्म ढार
तांडव में लीन शिव, अग्नि-स्फुलिंग सम
डम, डम, डम, डम निनाद, डमरू का तुमुल नाद,
मदान्ध सिंधुराज मार, मेद-लिप्त त्वचा बाँध
तालों पर नृत्य रौद्र, भीषण भयंकरा
जयतु, जयतु महादेव, सोमनाथ शंकरा…

मत्त उन्मत्त नृत्य, भाल अग्नि ज्योति दीप्त
साधना में लीन शंभु, पंचशर विनाश कर
धम-धम,धम धिमिन-धिमिन मृदुध्वनि मृदंग ध्वनित
मखारि, स्मरारि नाथ, शिर कराल गंग धार
सहस्त्रनेत्र-सेव्य शिव, किशोर शशि शेखरा
जयतु, जयतु, महादेव, सोमनाथ शंकरा…

जाल-जटा गंग धार, कण्ठ में भुजंग डार,
गौरा संग उमानाथ, विचरत कैलास द्वार
छुन-छुन, छुन, छनक-छनक नूपुर पद-ताल रणत
गजारि, त्रिपुरारि, उमानाथ, ग्रीव गरल धार
भक्तन की लाज ढक, चकोर-बंधु शेखरा
जयतु, जयतु,महादेव, सोमनाथ शंकरा…

काल-काल सुन पुकार, अरि-दल हत महाकाल
शैलजा के नाथ शिव, गणपति, कुमार सुत
सुरसरि अवतरित केश, कल-कल, कल स्वर विशेष
समदर्शी, सिद्धनाथ, असुरों का कर विनाश
व्योमकेश, रामेश्वर, हर-हर विश्वेश्वरा
जयतु, जयतु, जयतु महादेव, सोमनाथ शंकरा…
जयतु, जयतु, महादेव, सोमनाथ शंकरा…

2 Likes · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
Ravi Prakash
मान बुजुर्गों की भी बातें
मान बुजुर्गों की भी बातें
Chunnu Lal Gupta
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
abhinandan
abhinandan
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
Ranjeet kumar patre
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
"चालाकी"
Ekta chitrangini
3452🌷 *पूर्णिका* 🌷
3452🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
भोले भाले शिव जी
भोले भाले शिव जी
Harminder Kaur
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
क्या देखा
क्या देखा
Ajay Mishra
फितरत
फितरत
Bodhisatva kastooriya
प्रेम
प्रेम
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
■ बेचारे...
■ बेचारे...
*प्रणय प्रभात*
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पुस्तक समीक्षा- उपन्यास विपश्यना ( डॉ इंदिरा दांगी)
पुस्तक समीक्षा- उपन्यास विपश्यना ( डॉ इंदिरा दांगी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*BOOKS*
*BOOKS*
Poonam Matia
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"एक कदम"
Dr. Kishan tandon kranti
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
सुप्रभात प्रिय..👏👏
सुप्रभात प्रिय..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
Anand Kumar
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जलती बाती प्रेम की,
जलती बाती प्रेम की,
sushil sarna
ख़ुद से ख़ुद को
ख़ुद से ख़ुद को
Akash Yadav
Loading...