Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 2 min read

जय बोलो मानवता की🙏

जय बोलो मानवता की🙏

🌿🌿🌷🌿🌷🌿🌿
जय बोलो सब जनता की
जय बोलो जन ममता की

बोलो जय करुणा दया की
जय बोलो विघ्नहर्ता की

जय बोलो अन्न दाता की
बोलो जय निज माता की

जय बोलो भारत माता की .
बोलो जय बीरों की माता

जय बोलो जन एकता की
बोलो जय प्रकृति माताकी

अपमान ना सम्मान हो
उच्च नीच का ज्ञान मिले

संसार मिले पर दौलत न
अंबार मिले जग कल्याण

भाव मिले सम्मान मिले
जन सेवा का काम मिले

सदाचार सद्‌भाव संस्कार
स्वस्थ्य स्वास्थ्य विचार मिले

जीवन शैली निडर वहार मिले
सबको सबसे रिस्ता नाता हो

दीप जले आंधियारों में
भूख मिटे झोपड़ियों में

कोई भूखा जग में ना हो
शहनाई बजे हर घर घर में

खुशियों का अंबार मिले
जग जन मानस प्यार बढ़े

रक्त उर्जा का संचार हो
सत्य अहिंसा की पूजा हो

जनता मे जनहित भाव हो
समता समानता का राज हो

नारी को सम्मान मिले
बहु बेटी में भेद मिटे

माँ बेटी का प्यार मिले
मानवता प्रेम का बोध हो

जय बोलो सब जनता की
जय बोलो जन मानवता की

देश की माटी मेरी माटी
मिल बांट हम सब खायेंगे

सच्चाई स्वच्छता सफाई
जागरूकता को अपनायेंगे

अपने पराये का भेद भाव
छोड़ देशहित का काम करेंगे

वाद विवाद दोष द्वेष मिटा
साथ साथ जीवन बितायेंगे

भारत की विभिन्नता में एकता
का दर्शन करायेंगे । जय बोलो

जय बोलो नीति निर्माता की
जय बोलो संविधान की

जय बोलो कानून सत्ता की
जय बोलो शासन प्रशासन
अनुशासन पालनकर्ता की

जय बोलो जग जनता की
जय बोलो मानवता की ॥

🌿🌿🙏🙏🌿🌿🌿

कविवर : –
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
1 Like · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
इसरो का आदित्य
इसरो का आदित्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
self doubt.
self doubt.
पूर्वार्थ
प्रेम में डूबे रहो
प्रेम में डूबे रहो
Sangeeta Beniwal
धिक्कार
धिक्कार
Dr. Mulla Adam Ali
रजनी छंद (विधान सउदाहरण)
रजनी छंद (विधान सउदाहरण)
Subhash Singhai
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
शेखर सिंह
*ऐसी हो दिवाली*
*ऐसी हो दिवाली*
Dushyant Kumar
నా గ్రామం..
నా గ్రామం..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
उनके ही नाम
उनके ही नाम
Bodhisatva kastooriya
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
gurudeenverma198
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
दिल चाहता है अब वो लम्हें बुलाऐ जाऐं,
दिल चाहता है अब वो लम्हें बुलाऐ जाऐं,
Vivek Pandey
वक़्त है तू
वक़्त है तू
Dr fauzia Naseem shad
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
Mahendra Narayan
"नतीजा"
Dr. Kishan tandon kranti
4) “एक और मौक़ा”
4) “एक और मौक़ा”
Sapna Arora
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*उठो,उठाओ आगे को बढ़ाओ*
*उठो,उठाओ आगे को बढ़ाओ*
Krishna Manshi
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भज ले भजन
भज ले भजन
Ghanshyam Poddar
सारे निशां मिटा देते हैं।
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
Ravi Prakash
Loading...