Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2016 · 1 min read

जब से उसकी नज़रों का मैं निशाना बना

जब से उसकी नज़रों का मैं निशाना बना,
तबसे उसकी गली में मेरा आना जाना बना।

खुदा की रौशनी ज़मीं पे कोई नूर है वो,
है जन्नतों से उतर आई कोई हूर है वो,
ये शहर सारा उसके हुस्न का दीवाना बना,
तबसे उसकी गली में मेरा आना जाना बना।

ये चाँद बन के दीवाना गली में घूम रहा था,
तेरे पैरो के निशां भी लबो से चूम रहा था,
बड़ा मशहुर इसके इस्क का फ़साना बना,
तबसे उसकी गली में मेरा आना जाना बना।

कितनी रुशवाईयों को दिल में ले के बैठा था,
बूझे चिराग सा ये दिल मैं ले के बैठा था,
तुझे देखा तो जल उठा दिल ये परवाना बना,
तबसे उसकी गली में मेरा आना जाना बना।

जब से उसकी नज़रों का मैं निशाना बना,
तबसे उसकी गली में मेरा आना जाना बना।

Language: Hindi
209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं किताब हूँ
मैं किताब हूँ
Arti Bhadauria
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
Pakhi Jain
2245.
2245.
Dr.Khedu Bharti
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
'अशांत' शेखर
मिसाइल मैन को नमन
मिसाइल मैन को नमन
Dr. Rajeev Jain
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
तभी भला है भाई
तभी भला है भाई
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
रात के सितारे
रात के सितारे
Neeraj Agarwal
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
💐प्रेम कौतुक-282💐
💐प्रेम कौतुक-282💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* विजयदशमी *
* विजयदशमी *
surenderpal vaidya
*एक चूहा*
*एक चूहा*
gpoddarmkg
चुनावी जुमला
चुनावी जुमला
Shekhar Chandra Mitra
शेर
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ज़िंदगी पर लिखे अशआर
ज़िंदगी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह तो आदत है मेरी
यह तो आदत है मेरी
gurudeenverma198
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
Leena Anand
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
कुटीर (कुंडलिया)
कुटीर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
Sonu sugandh
Loading...