Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

जन्म दायनी माँ

माँ की कोख पला ,धरती पर पहला कदम माँ बोला माँ ने दुनियां से परिचित करवाया !!

माँ ने जिंदगी दिया ,माँ ने दुनिया समाज बताया माँ रिश्तों से मिलवाया वसुंधरा ने विश्व ब्रह्माण्ड को बताया !!

माँ की उंगलियां पकड़ कर चलना सीखा माँ ने ही हाथ मे कलम पकड़ाया वसुंधरा ने चाल काल वर्तमान वविष्य इतिहास भूगोल से परिचित करवाया ।।

माँ के चरणों मे स्वर्ग और माँ के आँचल में संसार ब्रह्मांड का सत्यार्थ प्रकाश है जननी जन्म भूमि स्वर्ग साक्षात् !!

माँ के दूध के कर्ज़ फ़र्ज का पंच महाभूतों के शरीर मे माँ आत्मा स्वाश धड़कन प्राण का आधार अवनि अस्तित्व हस्ती की हद गुरुर गर्व मान स्वाभिमान !!

माँ देवकी है ,यशोदा ,सरस्वती हैं , माँ यथार्थ जीवन मूल्यों का सार प्रकाश हैं धरा धन्य ,अवनि अरमान ,खाब ,हकीकत वसुंधरा कर्म धर्म का जीवन ज्ञान !!

कभी भी माँ ने अपने स्नेह मर्म मर्यादा से ओझल नही होंने दिया मेरा यह जीवन ,जीवन के हर पल प्रहर, में वसुंधरा जीवन मूल्यों का आवरण भाव भावना मानव मानवता का युग संसार माँ।।

Language: Hindi
247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
कवि दीपक बवेजा
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
” सबको गीत सुनाना है “
” सबको गीत सुनाना है “
DrLakshman Jha Parimal
दोस्ती
दोस्ती
Rajni kapoor
एक ख्वाब
एक ख्वाब
Ravi Maurya
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
Ravi Prakash
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
The_dk_poetry
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
माँ
माँ
Neelam Sharma
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
Neeraj Agarwal
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
पूर्वार्थ
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
हम तुमको अपने दिल में यूँ रखते हैं
हम तुमको अपने दिल में यूँ रखते हैं
Shweta Soni
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
Keshav kishor Kumar
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
ईमानदार  बनना
ईमानदार बनना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
........,?
........,?
शेखर सिंह
लालच
लालच
Vandna thakur
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
My Guardian Angel
My Guardian Angel
Manisha Manjari
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
Loading...