Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*

जनता के कब पास है, दो हजार का नोट (कुंडलिया)

जनता के कब पास है, दो हजार का नोट
रहा तिजोरी में सदा, यह पर्दे की ओट
यह पर्दे की ओट, दुकानों पर कब पाया
सड़कों पर जन-आम, जेब में ले कब आया
कहते रवि कविराय, छुपा रुस्तम था बनता
हुआ नोट यह बंद, न किंचित चिंतित जनता

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

404 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
हम भी अपनी नज़र में
हम भी अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
आई होली आई होली
आई होली आई होली
VINOD CHAUHAN
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चोला रंग बसंती
चोला रंग बसंती
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2901.*पूर्णिका*
2901.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
Loading...