Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 2 min read

जगन्नाथ रथ यात्रा

जगत के नाथ जगन्नाथ ,
दर्शन देने निकले हैं l
भगत से मिलने को आतुर ,
चौखट पार कर निकले हैं ll १ ll

सुदर्शन धारी श्री जगन्नाथ,
माता सुभद्रा और बलदाऊ के साथ l
परमानन्द देने भक्तों को,
मदन मोहन मन को हरने निकले हैं ll २ ll

बैठे हैं जब से रथ पे वो ,
झूमा ब्रह्माण्ड हर्षित हो l
भक्ति के रस में भीगे हुए,
भक्तों की टोली निकली है ll ३ ll

नेत्रों में लिए करुणा का सागर ,
चले जगन्नाथ यू सज धज कर l
दोनों हाथों से भर भर कर,
कृपा बरसाने निकले हैं ll ४ ll

नहीं हटती नजर उनसे ,
जिनका मुख चंद्र चंचल सा l
कोटि सूर्य भी लगे फीके,
जब जगन्नाथ रथ पे आते हैं ll ५ ll

कीर्तन मृदंग और करताल ,
मिले जब इनके सुर और ताल l
भगत नाचे मगन होकर,
यूँ गौरांग को रिझाने निकले हैं ll ६ ll

आज दिशा दशा का संज्ञान कहाँ ,
बस रथ और रस्सी पर ध्यान यहाँ l
हरी कीर्तन से गूँजा परिवेश जहाँ
संन्यास गृहस्थ सब मग्न वहाँ ll ७ ll

कटे जन्म मृत्यु का चक्कर ,
पकडे जो रथ की रस्सी को कसकर l
ह्रदय तृप्त हो जाये भक्ति रस पीकर ,
यात्रा में नाचे जो मगन होकर ll ८ ll

जब जब रथ के पहिये बढ़े ,
भक्तों ने कूंचे से कंकड़ गिने l
जगन्नाथ के तुच्छ सेवक हैं हम ,
सोचके बस यही ह्रदय निर्मल किये ll ९ ll

बसों सबके ह्रदय में, हे जगन्नाथ ,
जन्मजन्मांतर की यात्रा से दे दो विश्राम l
जीवन बीते बस गाते हरी का गान l
क्षण अंतिम हो,बस मुख से निकले श्री जगन्नाथ ll १० ll

Language: Hindi
4 Likes · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे पता है।
मुझे पता है।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
Satish Srijan
■ जीवन सार...
■ जीवन सार...
*Author प्रणय प्रभात*
माँ गौरी रूपेण संस्थिता
माँ गौरी रूपेण संस्थिता
Pratibha Pandey
Rang hi khuch aisa hai hmare ishk ka , ki unhe fika lgta hai
Rang hi khuch aisa hai hmare ishk ka , ki unhe fika lgta hai
Sakshi Tripathi
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
Jatashankar Prajapati
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
कवि रमेशराज
नव वर्ष मंगलमय हो
नव वर्ष मंगलमय हो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
dks.lhp
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
Leena Anand
2912.*पूर्णिका*
2912.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
*जुदाई न मिले किसी को*
*जुदाई न मिले किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
घरौंदा
घरौंदा
Dr. Kishan tandon kranti
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*सब दल एक समान (हास्य दोहे)*
*सब दल एक समान (हास्य दोहे)*
Ravi Prakash
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
बोल हिन्दी बोल, हिन्दी बोल इण्डिया
बोल हिन्दी बोल, हिन्दी बोल इण्डिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेहनत की कमाई
मेहनत की कमाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सच सच कहना
सच सच कहना
Surinder blackpen
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla
बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla
Mohan Pandey
Loading...