Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2023 · 1 min read

छोड़ दो

#दिनांक:-6/10/2023
#शीर्षक:-छोड़ दो।

बड़े प्यार से प्यार करते हो,
आँखों से आदतन इजहार करते हो,
एकटक यूं क्या देखते हो ?
हमें देख लम्बी आह क्यों भरते हो?
तस्वीर मेरी मैंने !
तेरे सीने पर आज पायी !
मुस्कुरा रहे थे जब तुम,
तेरे सीने से लिपट मैं बहुत रोई।
हर बात पर मेरे तुम मुस्कुरा देते हो,
पता नहीं सुनते भी हो !
या बस प्रेम में डूबे रहते हो ?
खुद हरण हो गई हूँ मैं,
तेरे दिल से वरण हो गई हूँ मैं!
फैल रहे हो ,
दिल की दुनियॉ पर बेलगाम,
असीमित प्रेम के घर में तेरे,
रह रही हूँ मैं,
कभी-कभी तन्हॉ जो सताते हो,
सताना छोड़ दो,
ख्याबों में अधरों को छू जाते हो,
छोड दो।
मुरीद हो गया दिल ,
तेरे और तेरे प्यार का,
अब वफा के किस्से,
रोज-रोज सुनाना,
छोड़ दो|

रचना मौलिक, अप्रकाशित, स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है।

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
Dr MusafiR BaithA
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
बम बम भोले
बम बम भोले
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
चुनाव
चुनाव
Mukesh Kumar Sonkar
चुनावी रिश्ता
चुनावी रिश्ता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रैन बसेरा
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
क्या विरासत में हिस्सा मिलता है
क्या विरासत में हिस्सा मिलता है
Dr fauzia Naseem shad
*हमारे ठाठ मत पूछो, पराँठे घर में खाते हैं (मुक्तक)*
*हमारे ठाठ मत पूछो, पराँठे घर में खाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ाक हुए अरमान सभी,
ख़ाक हुए अरमान सभी,
Arvind trivedi
महिला दिवस
महिला दिवस
Surinder blackpen
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
पूर्वार्थ
जन मन में हो उत्कट चाह
जन मन में हो उत्कट चाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कितने घर ख़ाक हो गये, तुमने
कितने घर ख़ाक हो गये, तुमने
Anis Shah
💐प्रेम कौतुक-469💐
💐प्रेम कौतुक-469💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
आप  की  मुख्तसिर  सी  मुहब्बत
आप की मुख्तसिर सी मुहब्बत
shabina. Naaz
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
।। परिधि में रहे......।।
।। परिधि में रहे......।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...