Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

छोड़ दिया किनारा

छोड़ दिया किनारा

मन हो तो थाम लेना
या बह जाने देना
दूर बहुत ही दूर …
नियति के बहाव में…
कश्ती ने आखिर
छोड़ ही दिया ,
खोखले और भयभीत
माझीयो का किनारा…

– क्षमा उर्मिला

1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kshma Urmila
View all
You may also like:
*जाते देखो भक्तजन, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*जाते देखो भक्तजन, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
"सुकून"
Dr. Kishan tandon kranti
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
Slok maurya "umang"
दस्तक बनकर आ जाओ
दस्तक बनकर आ जाओ
Satish Srijan
मुरली कि धुन,
मुरली कि धुन,
Anil chobisa
चंद अशआर - हिज्र
चंद अशआर - हिज्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
खुद से मुहब्बत
खुद से मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनी मिट्टी की खुशबू
अपनी मिट्टी की खुशबू
Namita Gupta
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
जोश,जूनून भरपूर है,
जोश,जूनून भरपूर है,
Vaishaligoel
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
तमाम लोग किस्मत से
तमाम लोग किस्मत से "चीफ़" होते हैं और फ़ितरत से "चीप।"
*Author प्रणय प्रभात*
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...