Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

छोटी सी बात

हम अक्सर
बड़ी – बड़ी बातें
करते हैं।
बड़ी समस्याओं
के विषय में सोचते हैं।

और – नकार देते हैं
छोटी – छोटी बातों
छोटी – छोटी चीजों
को सिरे से।

फिर एक दिन
बिल्कुल अचानक
ये छोटी बातें
आ खड़ी होती हैं
हमारे समक्ष
किसी बड़ी समस्या
के रूप में।

हम मुँह उठाए अवाक
देखते रह जाते हैं उन्हें
और – तब उठता है
मन में यह सवाल
आखिर इन छोटी बातों
के विषय में हमने
पहले क्यों नहीं सोचा..??

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
वर्ष :- २०१३.

Language: Hindi
66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
Jogendar singh
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
DrLakshman Jha Parimal
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
23/41.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/41.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
कवि दीपक बवेजा
■ आलेख
■ आलेख
*प्रणय प्रभात*
"पसीने से"
Dr. Kishan tandon kranti
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुश्मन को दहला न सके जो              खून   नहीं    वह   पानी
दुश्मन को दहला न सके जो खून नहीं वह पानी
Anil Mishra Prahari
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
मित्रता
मित्रता
Shashi Mahajan
मोहता है सबका मन
मोहता है सबका मन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
manjula chauhan
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
I want to hug you
I want to hug you
VINOD CHAUHAN
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
पूर्वार्थ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
सविनय निवेदन
सविनय निवेदन
कृष्णकांत गुर्जर
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
शेखर सिंह
कर सत्य की खोज
कर सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कैसा होगा मेरा भविष्य मत पूछो यह मुझसे
कैसा होगा मेरा भविष्य मत पूछो यह मुझसे
gurudeenverma198
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
Loading...