Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2023 · 1 min read

“छोटी चीजें”

“छोटी चीजें”
छोटी चीजें आकार लेती है
एक शब्द से,
स्वयं को खोलती है
एक मुस्कान से,
चुपके से आती है
झरोखों से,
कभी टपक जाती है
बन्द पलकों से।

5 Likes · 2 Comments · 283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
पंचवक्त्र महादेव
पंचवक्त्र महादेव
surenderpal vaidya
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Shyam Sundar Subramanian
हरित - वसुंधरा।
हरित - वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
3129.*पूर्णिका*
3129.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
✍️♥️✍️
✍️♥️✍️
Vandna thakur
आजकल गजब का खेल चल रहा है
आजकल गजब का खेल चल रहा है
Harminder Kaur
*आओ-आओ इस तरह, अद्भुत मधुर वसंत ( कुंडलिया )*
*आओ-आओ इस तरह, अद्भुत मधुर वसंत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
SPK Sachin Lodhi
kavita
kavita
Rambali Mishra
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
■ प्रणय_गीत:-
■ प्रणय_गीत:-
*प्रणय प्रभात*
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
बचपन की मोहब्बत
बचपन की मोहब्बत
Surinder blackpen
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सितारा कोई
सितारा कोई
shahab uddin shah kannauji
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
इंसान का कोई दोष नही जो भी दोष है उसकी सोच का है वो अपने मन
इंसान का कोई दोष नही जो भी दोष है उसकी सोच का है वो अपने मन
Rj Anand Prajapati
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
दान किसे
दान किसे
Sanjay ' शून्य'
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
Manisha Manjari
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
Phool gufran
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
Loading...