Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2021 · 1 min read

छठ पूजा

धुप उत्सव है या उत्सव धुप सा
गीतों की गुनगुनाहट पर थिरक रही है
स्मृति
गाये जा रहे हैं वो गीत
जिसमें शामिल है प्रकृति
केले के पत्ते से लेकर
सुख – सौभाग्य – औलाद से बँधी साझी संस्कृति…☀️

भीड़ है ठहराव के बीच
चुप है परेशानियां
परबे (व्रत) भर न
कह कर तालमेल में फिर से फुंक गये हैं प्राण
कहीं सिमट; कहीं दबा; कहीं पीछे रह गया है अभिमान।

शुद्धता का चरम
पवित्रता की ताप
मुखमंडल पर लालिमा
आँगन में गेहुँ
मिट्टी के चुल्हे पर सोंधापन
रच रहा है

परलय की विभीषिका को लाँघ एकबार फिर जीवन की ज्योत में प्राण
………….☀️
कल सोशलमीडिया पर विचरण के दौरान कहते सुना साध्वी दीदी
माँ ऋतंभरा को
“मनहुसियत अच्छी नहीं होती; उत्सव अच्छा होता है; महोत्सव अच्छा होता हैः यही है सनातन
हम वो हैं
जिसमें सामार्थ्य है; पाषाण पर सिंदूर लगा उनमें संकटमोचन को उतारने की,
वजह
हम देवसत्ता को मानने वाले लोग हैं इसलिये ग्राम देवता गृह देवता (कुलदेव) होते हैं”
………………………..☀️……………………

शब्द इधरउधर हो सकते हैं पर सच्चाई तो यही है न

धुल फुल शुल शौर्य करुणा प्रेम से सुसज्जित
भरतवंश की संस्कृति
का एक ही ध्येय है
पल्लवन
अनन्त काल तक……..पल्लवन।

छठपूजा ☀️

©दामिनी नारायण सिंह

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
सीता ढूँढे राम को,
सीता ढूँढे राम को,
sushil sarna
"चलना और रुकना"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
गणपति स्तुति
गणपति स्तुति
Dr Archana Gupta
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
मनुस्मृति का, राज रहा,
मनुस्मृति का, राज रहा,
SPK Sachin Lodhi
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
Subhash Singhai
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल का भी क्या कसूर है
दिल का भी क्या कसूर है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2888.*पूर्णिका*
2888.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
Shivkumar Bilagrami
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए...
Sunil Suman
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
नेता का अभिनय बड़ा, यह नौटंकीबाज(कुंडलिया )
नेता का अभिनय बड़ा, यह नौटंकीबाज(कुंडलिया )
Ravi Prakash
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
कोई इतना नहीं बलवान
कोई इतना नहीं बलवान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
■ एक लफ़्ज़ : एक शेर...
■ एक लफ़्ज़ : एक शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-337💐
💐प्रेम कौतुक-337💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...