Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

चोट मैं भी खायें हैं , तेरे इश्क में काफ़िर

चोट मैं भी खायें हैं , तेरे इश्क में काफ़िर
पर कभी तुझसे पंगा न लिया
मैं भी कभी थे तेरे,
जो आज भी दंगा न किया!!

तुम भूल जाओ मैं सिर्फ,
तेरे लिए आवारा ही था
कभी मैं अपने थे,
जो तेरे लिए सहारा ही था!!

मैं जानता हूँ अपनी दूरियाँ
तभी तो याद किया ,
तू चाहे मुझे या न चाहे
मैं फिर भी तुझे इंतजार किया!!

हाँ.. मैं मानता हूँ , बेवफ़ा हूँ मैं..
पर कोई शक तो नहीं..
होते हुए भी, तेरा ही आशिक़ हूँ,
मुझे चाहने का किसी के हक तो नहीं!!

मेरे हाथ इतने लंबे तो हैं नहीं
जो तेरी ख़ामोशी को पकड़ लूँ
बस तुझसे प्यार करूँ मैं..
और अपने धड़कन में जकड़ लूँ!!

इतने बड़े आदी तो हैं नहीं
जो मुहब्बत को सरेआम कर दूँ..
तारों से तेरा शृंगार करूँ,
और इश्क को मैं जाम कर दूँ!!

अगर तूने देना ही था,
तो ये जुदाई क्यूँ दिया
हाथों से ज़हर पिला देते मुझे..
पर मुझे रिहाई क्यूँ किया!!

मनोज कुमार
गोण्डा जिला उत्तर प्रदेश

1 Like · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मई दिवस
मई दिवस
Neeraj Agarwal
"नसीबे-आलम"
Dr. Kishan tandon kranti
बेवफाई की फितरत..
बेवफाई की फितरत..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम हमेशा से  मेरा आईना हो॥
तुम हमेशा से मेरा आईना हो॥
कुमार
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
Ranjeet kumar patre
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
जगदीश शर्मा सहज
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
फिर एक बार 💓
फिर एक बार 💓
Pallavi Rani
जीवन से पहले या जीवन के बाद
जीवन से पहले या जीवन के बाद
Mamta Singh Devaa
आज इस सूने हृदय में....
आज इस सूने हृदय में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
#अहसास से उपजा शेर।
#अहसास से उपजा शेर।
*Author प्रणय प्रभात*
आभा पंखी से बढ़ी ,
आभा पंखी से बढ़ी ,
Rashmi Sanjay
रहब यदि  संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
रहब यदि संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
DrLakshman Jha Parimal
जब कोई साथी साथ नहीं हो
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
सखि आया वसंत
सखि आया वसंत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
କଳା ସଂସ୍କୃତି ଓ ପରମ୍ପରା
କଳା ସଂସ୍କୃତି ଓ ପରମ୍ପରା
Bidyadhar Mantry
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
शेखर सिंह
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*मेरा आसमां*
*मेरा आसमां*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
Shweta Soni
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
Loading...