Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

चूड़ियां

अहसासों, जज्बातों के रंगों से सजी
कितनी मनमोहक हैं ये धानी चूड़ियां,

बचपन में, मिट्टी से चूल्हा लीपते
देखी हैं मां के हाथों की खनकती चूड़ियां,

मां की उन्हीं टूटी चूड़ियों से बना एक चित्र,
आज भी मन में कसकती हैं चूड़ियां

धड़कते दिल से किसी आहट का इंतजार करती
और उससे नज़रें दो चार होते ही,लजाती है चूड़ियां

दो दिलों के जज़्बात एक होते ही,
सुर्ख गालों की रंगत से दहकती हैं चूड़ियां,

आंगन में नई किलकारी की गूंज से
एक अनोखी पुलक से भर उठती हैं चूड़ियां,

कई बार अनछुए अहसासों की
महक से मदमाती हैं चूड़ियां

साजन से दूर,रात के अकेलेपन में
यादों से बातें करती हैं चूड़िया,

नारीत्व के अभिमान से भरपूर
औरत का श्रृंगार हैं चूड़ियां.

Language: Hindi
87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
स्वयं ही स्वयं का अगर सम्मान करे नारी
स्वयं ही स्वयं का अगर सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
कैसे कहूँ....?
कैसे कहूँ....?
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
जाने  कैसे दौर से   गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
विचार , हिंदी शायरी
विचार , हिंदी शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
Taj Mohammad
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
Ranjeet kumar patre
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भारत है वो फूल (कविता)
भारत है वो फूल (कविता)
Baal Kavi Aditya Kumar
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
खुशी की तलाश
खुशी की तलाश
Sandeep Pande
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
राम आधार हैं
राम आधार हैं
Mamta Rani
*जग जीत पाते हैं (मुक्तक)*
*जग जीत पाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
कितनी खास हो तुम
कितनी खास हो तुम
आकांक्षा राय
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
Dr Manju Saini
जल बचाओ , ना बहाओ
जल बचाओ , ना बहाओ
Buddha Prakash
तुम क्या चाहते हो
तुम क्या चाहते हो
gurudeenverma198
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*
*"बापू जी"*
Shashi kala vyas
भोर पुरानी हो गई
भोर पुरानी हो गई
आर एस आघात
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
महामना मदन मोहन मालवीय
महामना मदन मोहन मालवीय
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...