Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2023 · 1 min read

“चुम्बन”

“चुम्बन”
किस, चुम्मा, बोसा, बोकि
नाम है अनेक,
उम्मा भी कह लो पप्पी भी
चुम्बन सारे नेक।
कभी सुरसुराहट, कभी थरथराहट
कभी शरमाई आँखों का,
कभी गुदगुदाहट, कभी कँपकँपाहट
गिनती नहीं जज्बातों का।

10 Likes · 4 Comments · 256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
* चाह भीगने की *
* चाह भीगने की *
surenderpal vaidya
2731.*पूर्णिका*
2731.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
As gulmohar I bloom
As gulmohar I bloom
Monika Arora
"जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सवेदना
सवेदना
Harminder Kaur
मेरे सपने
मेरे सपने
Saraswati Bajpai
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
गुलाब
गुलाब
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
*हे तात*
*हे तात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
Sanjay ' शून्य'
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
जिंदगी हमें किस्तो में तोड़ कर खुद की तौहीन कर रही है
जिंदगी हमें किस्तो में तोड़ कर खुद की तौहीन कर रही है
शिव प्रताप लोधी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
Mahender Singh
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
दुनियादारी....
दुनियादारी....
Abhijeet
सामाजिक बहिष्कार हो
सामाजिक बहिष्कार हो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ज़माना साथ था कल तक तो लगता था अधूरा हूँ।
ज़माना साथ था कल तक तो लगता था अधूरा हूँ।
*प्रणय प्रभात*
आओ सजन प्यारे
आओ सजन प्यारे
Pratibha Pandey
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
VINOD CHAUHAN
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
आजकल की बेटियां भी,
आजकल की बेटियां भी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
कवि दीपक बवेजा
Loading...