Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2024 · 2 min read

चुप्पी!

माँ चुप रही, एकदम चुप,
जब खाना पकाते वक़्त जल गई थी,
तब भी चुप ही रही,
जब कपड़े सुखाते धूप में झुलस गई थी,
चुप्पी तब भी थी उनके होठों पे,
जब पूरे घर की सफ़ाई अकेले की थी,
या जब २० लोगों के लिए,
चूल्हे पे अकेले खाना पकाई थी।

सब से पहले सुबह उठ,
सबके लिए सब काम करती है,
पर ध्यान रखती है कि शोर ना हो,
कहीं किसी की सुबह की नींद ना टूटे।

माँ जानती है किसको क्या चाहिए,
शायद इसलिए कभी गलती नहीं होती,
या फिर काम में इतना प्यार लगाती है,
कि गलत होने का अवसर ही ना बचे,
सबकी पसंद का ख़्याल चुप-चाप रखती है,
बदले में कभी उम्मीद भी नहीं रखती है।

माँ आज भी चुप ही है,
जब बेटे को बिगाड़ने का दोष लग रहा है,
या फिर बेटी के हक़ के लिए लड़ने का,
दोषी माना जा रहा है।

माँ तब भी चुप ही तो थी,
जब बिना गलती के पिताजी ने ग़ुस्सा किया था,
और जब बेटे के इंतज़ार में रात भर जगी थी,
या बेटी को आगे बढ़ाने के लिए ताने सुने थे,
और ससुराल में माँ-बाप के लिए कड़वे शब्द,
सुनकर ख़ाली पेट बस सो गई थी,
बेटी के ससुराल वालों के ताने सुन कर भी,
एकदम चुप सब सुन लेती रही,
एक शब्द तक नहीं मुँह से निकलती है।

माँ! क्यों चुप थी तुम इतना,
ये कैसी संस्कार की पोटली थमा गई,
जैसे तू चुप थी, वैसे मैं भी मौन हो गई,
काश कि तू इतनी संयमी ना होती,
ना होती इतनी तेरी सहन शक्ति,
तो आज मेरी भी आवाज़ होती बुलंद,
मैं भी अपने पहचान के लिए लड़ती।

फिर लगता है तू सही ही तो बता गई,
लड़ना वहीं चाहिए, बोलना वहीं चाहिए,
जहाँ हो उचित सम्मान और आदर सही,
और फिर अपने कर्मों से अपनी पहचान,
एक अलग अवश्य ही तू बना गई।

38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अन्तरिक्ष यान"
Dr. Kishan tandon kranti
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
Dr. Man Mohan Krishna
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
Jogendar singh
बुदबुदा कर तो देखो
बुदबुदा कर तो देखो
Mahender Singh
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जय हो जनता राज की
जय हो जनता राज की
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अपना घर फूंकने वाला शायर
अपना घर फूंकने वाला शायर
Shekhar Chandra Mitra
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
मेरे प्रेम पत्र
मेरे प्रेम पत्र
विजय कुमार नामदेव
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
अगर मैं कहूँ
अगर मैं कहूँ
Shweta Soni
कभी कभी छोटी सी बात  हालात मुश्किल लगती है.....
कभी कभी छोटी सी बात हालात मुश्किल लगती है.....
Shashi kala vyas
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
"अकेलापन की खुशी"
Pushpraj Anant
*व्याख्यान : मोदी जी के 20 वर्ष*
*व्याख्यान : मोदी जी के 20 वर्ष*
Ravi Prakash
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
Ranjeet kumar patre
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपने आप से भी नाराज रहने की कोई वजह होती है,
अपने आप से भी नाराज रहने की कोई वजह होती है,
goutam shaw
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
gurudeenverma198
कभी लगे  इस ओर है,
कभी लगे इस ओर है,
sushil sarna
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
Bidyadhar Mantry
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मिल जाएँगे कई सिकंदर कलंदर इस ज़माने में मगर,
मिल जाएँगे कई सिकंदर कलंदर इस ज़माने में मगर,
शेखर सिंह
#हिन्दुस्तान
#हिन्दुस्तान
*प्रणय प्रभात*
Loading...