Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

*चुनावी कुंडलिया*

चुनावी कुंडलिया
🍃🍃🍃🍃🍂
जाते पिकनिक पर कई, छोड़-छाड़ मतदान (कुंडलिया)
➖➖➖➖➖➖➖➖
जाते पिकनिक पर कई, छोड़-छाड़ मतदान
बैरी वह जनतंत्र के, समझो शत्रु महान
समझो शत्रु महान, अरे कर्तव्य भुलाया
उनको है धिक्कार, केंद्र-मतदान न भाया
कहते रवि कविराय, पाप वह लोग कमाते
बिना दिए जो वोट, तीर्थ-यात्रा पर जाते
———————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
गुजार दिया जो वक्त
गुजार दिया जो वक्त
Sangeeta Beniwal
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
जल जंगल जमीन
जल जंगल जमीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी गुज़र जाती हैं
जिंदगी गुज़र जाती हैं
Neeraj Agarwal
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
Ravi Prakash
25. *पलभर में*
25. *पलभर में*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
आज का रावण
आज का रावण
Sanjay ' शून्य'
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
पगली
पगली
Kanchan Khanna
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
🍃🌾🌾
🍃🌾🌾
Manoj Kushwaha PS
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
Manoj Mahato
"असलियत"
Dr. Kishan tandon kranti
तू बदल गईलू
तू बदल गईलू
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
The_dk_poetry
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
दिया है नसीब
दिया है नसीब
Santosh Shrivastava
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संस्कृति के रक्षक
संस्कृति के रक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैत्री//
मैत्री//
Madhavi Srivastava
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कहने को बाकी क्या रह गया
कहने को बाकी क्या रह गया
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
बस चार है कंधे
बस चार है कंधे
साहित्य गौरव
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
Loading...