Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

चुगली ।

नंद और भौजाई साथ-2 एक ही जगह नौकरी करतीं थी।एक दिन नंद को पता नहीं क्या सूझा कि भाई से चुगली कर दी, नौबत रिश्ता टूटने तक आ पहुँची तो किसी तरह लोगों ने मामला सॅभाला, तो रिश्ता तो बच गया लेकिन असलियत तो ये थी कि दोनों का सगा रिश्ता नहीं था। तब शायद ये न होता ।अब भौजाई मस्त है और नंद पस्त है ।

Language: Hindi
1 Comment · 343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
Harminder Kaur
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Madhu Shah
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चाह ले....
चाह ले....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
gurudeenverma198
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
मैं तुम और हम
मैं तुम और हम
Ashwani Kumar Jaiswal
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
#प्रासंगिक
#प्रासंगिक
*Author प्रणय प्रभात*
*दहेज: छह दोहे*
*दहेज: छह दोहे*
Ravi Prakash
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
शेखर सिंह
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
लक्ष्मी सिंह
नित  हर्ष  रहे   उत्कर्ष  रहे,   कर  कंचनमय  थाल  रहे ।
नित हर्ष रहे उत्कर्ष रहे, कर कंचनमय थाल रहे ।
Ashok deep
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आज फिर दर्द के किस्से
आज फिर दर्द के किस्से
Shailendra Aseem
साल ये अतीत के,,,,
साल ये अतीत के,,,,
Shweta Soni
तेरी आदत में
तेरी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
Buddha Prakash
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
बहे संवेदन रुप बयार🙏
बहे संवेदन रुप बयार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...