Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 22, 2022 · 1 min read

चाय-दोस्ती – कविता

सर्दी बहुत बढ़ गयी है,
आखिर जनवरी का महीना है,
रेस्तरां में खड़े यूंही,
किसी ने कहा,
हम भी मुस्कुरा दिये,
चाय हो जाये एक प्याली,
साथ बैठे, चाय पी,
साथ दोस्ती में बदल गया।

रचनाकार :- कंचन खन्ना, कोठीवाल नगर,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)
दिनांक :- ०८/०१/२०२२.

2 Likes · 2 Comments · 154 Views
You may also like:
ये दिल
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
✍️बेपनाह✍️
'अशांत' शेखर
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
“ कोरोना ”
DESH RAJ
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
मैंने देखा हैं मौसम को बदलतें हुए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
शून्य से अनन्त
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
नज़रिया
Shyam Sundar Subramanian
दीपावली,प्यार का अमृत, प्यार से दिल में, प्यार के अंदर...
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तू ही पहली।
Taj Mohammad
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
एकाकीपन
Rekha Drolia
🌺प्रेमस्य रसः ज्ञानस्य रसेण बहु विलक्षणं🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कसूर किसका
Swami Ganganiya
कहते हो हमको दुश्मन
gurudeenverma198
ताला-चाबी
Buddha Prakash
ऋतुराज का हुआ शुभारंभ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️कृपया पुरुस्कार डाक से भिजवा दो!✍️
'अशांत' शेखर
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
Loading...