Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

चलो मनाएं नया साल… मगर किसलिए?

चलो मनाएं नया साल
मगर किसलिए?

मानो तो हर दिन
नया सवेरा लेकर आता है
न मानो तो नया साल भी देखो
वही पुरानी दास्तां आगे बढाता है।

वही सपने हैं, वही आदमी पुराना,
वही घर है,वही दफ्तर पुराना,
हां रौनक जरूर बदली है
लोगों के चेहरों की
नया साल मुबारक़ करते करते।

फिर भी वो ही चिंताऐं
दिमाग को घेरे हैं
जो कल भी ऐसे ही सताती थीं।

फिर नया क्या हुआ इसमें
जब हमारी मजबूरियां न बदली

नया साल मनाओ मगर जब
आपकी माली हालत सुधर जाए,
डूबती नैया को साहिल मिल जाए,
किसान को बर्बादी का डर न सताए,
जवान को दुश्मन का प्रेम पत्र आए।

जब मेरे देश में कोई भूखा न सोये,
जब मेरे देश में कोई कपडे को न तरसे
जब कोई रह में भीख न मांगे
जब कोई नागरिक दुनिया का
शरणार्थी बनने को मज़बूर न हो

जब कोई साथी हमारा
मानवाधिकारों से वंचित न होl

उस दिन मनाएंगे हम भी नया साल
जब नहीं तरसेगा कोई
खाना, पढ़ना, दवा और मकान को

मेरे देश में, आना तुम भी
हम भी कहेंगे तब
आओ चलो मनाये नया साल.

©️ रचना ‘मोहिनी’

2 Likes · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिडम्बना
बिडम्बना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Mai deewana ho hi gya
Mai deewana ho hi gya
Swami Ganganiya
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
मंत्र की ताकत
मंत्र की ताकत
Rakesh Bahanwal
💐प्रेम कौतुक-563💐
💐प्रेम कौतुक-563💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2461.पूर्णिका
2461.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
श्रृष्टि का आधार!
श्रृष्टि का आधार!
कविता झा ‘गीत’
कर्म प्रकाशित करे ज्ञान को,
कर्म प्रकाशित करे ज्ञान को,
Sanjay ' शून्य'
क्षणभंगुर
क्षणभंगुर
Vivek Pandey
तुमसे रूठने का सवाल ही नहीं है ...
तुमसे रूठने का सवाल ही नहीं है ...
SURYA PRAKASH SHARMA
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"Do You Know"
शेखर सिंह
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
Aman Kumar Holy
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
ईश्वर कहो या खुदा
ईश्वर कहो या खुदा
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नारी टीवी में दिखी, हर्षित गधा अपार (हास्य कुंडलिया)
नारी टीवी में दिखी, हर्षित गधा अपार (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
अलार्म
अलार्म
Dr Parveen Thakur
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
Keshav kishor Kumar
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
Loading...