Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

चलो चलाए रेल।

सब मिल जुल कर खेलते, इक सुंदर सा खेल।
कांधे ऊपर हाथ रख, चलो चलाए रेल।

आगे हो सबसे बड़ा, छोटा पीछे खेल।
धीरे-धीरे सब चलो, करो न पेलम पेल।।

राधा इंजन बन गई, चल देती बिन तेल।
सब बच्चे डब्बा बने, कितनी सुंदर रेल।।

भीड़ बहुत भारी लगी, करते ठेलम ठेल।
बिना टिकट जो बैठता, उसको भेजूं जेल।।

बिन पटरी के दौड़ता, हम बच्चों का मेल।
धुआँ नहीं यह छोड़ती, देखो अपनी रेल।।

हाथ लगा कर होठ पर, छुक-छुक करती रेल।
जिसे नहीं है खेलना, घर जा पापड़ बेल। ।

वेधा सिंह

Language: Hindi
52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अकेले चलने की तो ठानी थी
अकेले चलने की तो ठानी थी
Dr.Kumari Sandhya
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
Suryakant Dwivedi
2876.*पूर्णिका*
2876.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
गुलाब
गुलाब
Satyaveer vaishnav
खंड: 1
खंड: 1
Rambali Mishra
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
शेखर सिंह
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
मुझ को इतना बता दे,
मुझ को इतना बता दे,
Shutisha Rajput
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
"क्रूरतम अपराध"
Dr. Kishan tandon kranti
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
है कौन वो
है कौन वो
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
😜 बचपन की याद 😜
😜 बचपन की याद 😜
*Author प्रणय प्रभात*
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चरित्रार्थ होगा काल जब, निःशब्द रह तू जायेगा।
चरित्रार्थ होगा काल जब, निःशब्द रह तू जायेगा।
Manisha Manjari
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जन्म दिन
जन्म दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...