Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

*चलो आओ करें बच्चों से, कुछ मुस्कान की बातें (हिंदी गजल)*

चलो आओ करें बच्चों से, कुछ मुस्कान की बातें (हिंदी गजल)
______________________
(1)
चलो आओ करें बच्चों से, कुछ मुस्कान की बातें
पता लग जाए शायद कुछ, हमें भगवान की बातें
(2)
रहो तुम बंगले-कोठी में, अच्छी बात है लेकिन
करो रोजाना खुद से मौन, कुछ शमशान की बातें
(3)
ये पैसे वाले चाहते हैं, मुलाकातें तो ईश्वर से
मगर ये कर रहे मंदिर में, अपनी शान की बातें
(4)
अगर भगवान बसता है, सभी में एक-सा ही तो
करें इंसानियत की अब, करें इंसान की बातें
(5)
हमेशा से जमाने में, रहे हैं लोग कुछ ऐसे
सदा रहता है मुख टेढ़ा, भरी अभिमान की बातें
_________________________
रचयिता:रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

492 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
surenderpal vaidya
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
*सत्पथ पर सबको चलने की, दिशा बतातीं अम्मा जी🍃🍃🍃 (श्रीमती उषा
*सत्पथ पर सबको चलने की, दिशा बतातीं अम्मा जी🍃🍃🍃 (श्रीमती उषा
Ravi Prakash
......मंजिल का रास्ता....
......मंजिल का रास्ता....
Naushaba Suriya
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
A Dream In The Oceanfront
A Dream In The Oceanfront
Natasha Stephen
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
Keshav kishor Kumar
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
Phool gufran
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
सत्य कुमार प्रेमी
देवर्षि नारद जी
देवर्षि नारद जी
Ramji Tiwari
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
Paras Nath Jha
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
अभिनव अदम्य
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
पापी करता पाप से,
पापी करता पाप से,
sushil sarna
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
😢लिव इन रिलेशनशिप😢
😢लिव इन रिलेशनशिप😢
*प्रणय प्रभात*
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
आप मुझको
आप मुझको
Dr fauzia Naseem shad
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
लोगो खामोश रहो
लोगो खामोश रहो
Surinder blackpen
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*** भूख इक टूकड़े की ,कुत्ते की इच्छा***
*** भूख इक टूकड़े की ,कुत्ते की इच्छा***
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"सुनो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...