Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

चलते रहना ही जीवन है।

कर्म पथ पर आज क्यों?
तू थक रहा ‘ जन’ है।
कर्मभूमि यह! समझ इसे,
गांठ बाँध दें मन में।
कहती धरा ,कहता अंबर
चलते रहना ही जीवन है ।१।

देख नभ में हो रहा उदय-अस्त,
प्रभाकर- सुधाकर में-
समय-समय पर गमन-आगमन
सीख! समझ, कर चिन्तन।
हृदय में करना भी मंथन है
चलते रहना ही जीवन है ।२।

बदलती ऋतुएँ- शरद, हेमंत-
ग्रीष्म, शीत, वर्षा और बसंत।
बढ़ती नदियाँ, बढ़ते वृक्ष
खग-विहग करते विचरण है
नियम प्रकृति का परिवर्तन है
चलते रहना ही जीवन है ।३।

काल-चक्र युग-युगांतर से
बदलता अपना चक्र है
आदि-अनादि, आधि-व्याधि
काल के ही वश में है
सम्बंध प्राकृतिक सघन है
चलते रहना ही जीवन है ।४।

✍संजय कुमार “सन्जू”
शिमला हिमाचल प्रदेश

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
अदम गोंडवी
अदम गोंडवी
Shekhar Chandra Mitra
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
अपने किरदार को किसी से कम आकना ठीक नहीं है .....
अपने किरदार को किसी से कम आकना ठीक नहीं है .....
कवि दीपक बवेजा
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
Yogini kajol Pathak
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आइना अपने दिल का साफ़ किया
आइना अपने दिल का साफ़ किया
Anis Shah
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
Priya princess panwar
वक्त-वक्त की बात है
वक्त-वक्त की बात है
Pratibha Pandey
दौड़ी जाती जिंदगी,
दौड़ी जाती जिंदगी,
sushil sarna
ऐ!मेरी बेटी
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
*इस बरस*
*इस बरस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
■ अचूक नुस्खा...
■ अचूक नुस्खा...
*Author प्रणय प्रभात*
*सावन आया गा उठे, मौसम मेघ फुहार (कुंडलिया)*
*सावन आया गा उठे, मौसम मेघ फुहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
//  जनक छन्द  //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3236.*पूर्णिका*
3236.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
Minakshi
"तब पता चलेगा"
Dr. Kishan tandon kranti
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी "अश्क " बहाए होगे..?
Sandeep Mishra
हसरतें
हसरतें
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*चुन मुन पर अत्याचार*
*चुन मुन पर अत्याचार*
Nishant prakhar
वो इश्क किस काम का
वो इश्क किस काम का
Ram Krishan Rastogi
Loading...