Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर….! ***

“” राहें पनघट की…
आसान हो सकती है…!
सैर पर्वतों की…
आसान हो सकती है…!
मगर ये सैर है…
चांद की ध्रुवीय सतह पर…,
इतना आसान नहीं, ये हो सकती है…!
ये जंग है…
असफलता में सफलता की…!
विज्ञान की विपन्नता में…
वैचारिक संपन्नता की…!
ये वादा है…
हौसले की जकड़ की…!
वैज्ञानिक विश्लेषण और…
अटूट इरादों के पकड़ की…!
हमने भी ठाना है…
मुश्किल से मुश्किल डगर, तय करना है…!

अब ” चंद्रयान -३ ” से…
आसमान की सैर करना है…!
और….
चांद की दक्षिणी ध्रुव पर , पैर रखना है…!
अपनी मंजिल की रास्ता…
कब तक, दूसरों से पूछेंगे…?
वो राष्ट्र कुटिल इरादों के गुमराह से…
कब तक यूं ही भटकते रहेंगे…?
अपनी अहमियत को अब…
हमने पहिचान लिया है…!
वैज्ञानिक क्षमता, आंकलन…
और परिकलन से…,
धरती-चांद की दूरी का…
सटीक अनुमान लगाया है…!
उम्मीदों की उड़ान…
हौसले की पहिचान…!
” मार्क-३, चंद्रयान-३ ” के सहारे…
चांद पर एक आशियाना बनाना है…!
” मानव हितकर ” हो विज्ञान शक्ति…
ऐसे नित नए अनुप्रयोग कर जाना है…!! “”

**************∆∆∆************

Language: Hindi
125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
हिंदी दोहा शब्द- घटना
हिंदी दोहा शब्द- घटना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2928.*पूर्णिका*
2928.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
Micro poem ...
Micro poem ...
sushil sarna
नील गगन
नील गगन
नवीन जोशी 'नवल'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
यादें
यादें
Dr fauzia Naseem shad
रास्ता तुमने दिखाया...
रास्ता तुमने दिखाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
Shweta Soni
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
Ram Krishan Rastogi
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
मॉर्निंग वॉक
मॉर्निंग वॉक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
There are few moments,
There are few moments,
Sakshi Tripathi
आलस मेरी मोहब्बत है
आलस मेरी मोहब्बत है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
*तिरंगा मेरे  देश की है शान दोस्तों*
*तिरंगा मेरे देश की है शान दोस्तों*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ ही हैं संसार
माँ ही हैं संसार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
*हजारों हादसों से रोज, जो हमको बचाता है (हिंदी गजल)*
*हजारों हादसों से रोज, जो हमको बचाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*समझौता*
*समझौता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" सौग़ात " - गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
Loading...