Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

चंदा तुम मेरे घर आना

चंदा तुम मेरे घर आना।।टेक।।

व्यथा लिए कुछ अपने मन में,
कोई बैठा है आंगन में,
उसकी पीड़ा को सहलाऊँ,
चंद्र खिलौना से बहलाऊँ,
पीर कसक की इस बेला में,
उसका मौन मुखर कर जाना।
चंदा तुम मेरे घर आना।।1।।

बड़े-बड़े अरमान सजाकर,
कोने में बैठी सकुचाकर,
जिनपर मैंने सबकुछ वारा,
शायद उनके मन अँधियारा,
मेरी माथे की बिँदिया से,
सवित-पुंज उनतक पहुँचाना।
चंदा तुम मेरे घर आना।।2।।

सुन ले मेरी बात बटोही,
साजन बन बैठे निर्मोही,
प्रेम-सूत्र को तोड़ चले हैँ,
वे मुझसे मुख मोड़ चले हैं,
कांति कहे, रूठे स्वामी से,
परिचय की भाषा बतलाना।
चंदा तुम मेरे घर आना।।3।।

© नन्दलाल सिंह ‘कांतिपति’

Language: Hindi
2 Likes · 668 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
View all
You may also like:
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
तन्हा -तन्हा
तन्हा -तन्हा
Surinder blackpen
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
■आज पता चला■
■आज पता चला■
*प्रणय प्रभात*
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
नजर और नजरिया
नजर और नजरिया
Dr. Kishan tandon kranti
लोग बंदर
लोग बंदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
सत्य कुमार प्रेमी
2730.*पूर्णिका*
2730.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उन्नति का जन्मदिन
उन्नति का जन्मदिन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बेरोजगार
बेरोजगार
Harminder Kaur
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
Vishal babu (vishu)
एक ख़्वाब सी रही
एक ख़्वाब सी रही
Dr fauzia Naseem shad
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
हर शख्स माहिर है.
हर शख्स माहिर है.
Radhakishan R. Mundhra
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
जपू नित राधा - राधा नाम
जपू नित राधा - राधा नाम
Basant Bhagawan Roy
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
शेखर सिंह
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
Suryakant Dwivedi
आ अब लौट चलें.....!
आ अब लौट चलें.....!
VEDANTA PATEL
कदम पीछे हटाना मत
कदम पीछे हटाना मत
surenderpal vaidya
ख्याल (कविता)
ख्याल (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
The thing which is there is not wanted
The thing which is there is not wanted
कवि दीपक बवेजा
Loading...