Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2023 · 1 min read

चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन

प्राणहीन चट्टानों को
मुस्काते देखा।
मूक राग अनकहे तराने
गाते देखा।

कोई अपनी प्रियसी को
टहलाय रहा है।
बिना हंसी के कोई बस
मुस्काय रहा है।
किसी का जन्म दिवस है
सो वह आया है।
रॉक गार्डन उसके मन को
भाया है।

मेरे मन पर छितर गयी एक
खुशी की रेखा।
प्राणहीन चट्टानों को
मुस्काते देखा।

जीर्ण शीर्ण समान कुशलता से
क्या खूब गढ़ा है।
सच में रॉक गार्डन निज में
दिखता बहुत बड़ा है।
टिकट के खर्चा में लगता
मामूली दाम।
सरल सुलभ है
अधिक मोल का नहीं है काम।

चटटानों की शोभा का
एक अदभुत लेखा।
प्राणहीन चट्टानों को
मुस्काते देखा।

197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ Rãthí
जब मुझसे मिलने आना तुम
जब मुझसे मिलने आना तुम
Shweta Soni
इस दिल में .....
इस दिल में .....
sushil sarna
सवर्ण
सवर्ण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Shyam Sundar Subramanian
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
Jay Dewangan
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
पूर्वार्थ
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"रफ-कॉपी"
Dr. Kishan tandon kranti
■ मिली-जुली ग़ज़ल
■ मिली-जुली ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
नदी की बूंद
नदी की बूंद
Sanjay ' शून्य'
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
The_dk_poetry
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
Loading...