Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2023 · 1 min read

****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******

****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
*******************************

ना कोई ठौर ठिकाना ना ही घर -द्वार हैँ,
खुली हवा में घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार हैँ।

हररोज बंजारे लोग बदलते रहते हैँ डेरा,
जोगियों सा उनका होता दर बदर फेरा,
खानाबदोशी जन जीवन सुंदर संसार है।
खुली हवा में घूमते घुमंतू गाड़ी लुहारहै।

सर्प सी बल खाती बंजारन चली आती,
नाक में नथनी कान में बाली बड़ी भाती,
खुदा ने बख्शा गोरा वर्ण रूप उपहार है।
खुली हवा में घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार है।

घाघरा कुर्ती पहनकर बनाती औजार हैँ,
मर्दों सी बहादुरी ले हाथों में हथियार हैँ,
छैल छबीली छोरियाँ तीखे नैन कटार है।
खुली हवा में घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार है।

लंबी सी मूँछे पहनते धोती कुर्ता हार है,
आन-बान से हैं सहते पगड़ी का भार है,
छैल छबीले छोरे कद काठी है अपार हैँ।
खुली हवा में घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार हैँ।

मनसीरत बजती घंटियाँ बैल गलहार में,
गाड़ी लुहारे आ गए नदी के इस पार में,
ले लो जो लेना चले जाएंगे उस पार हैँ।
खुली हवा में घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार हैँ।

ना कोई ठौर ठिकाना ना ही घर द्वार है।
खुली हवा में घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार है।
*******************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
Dr Archana Gupta
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
स्वयं को सुधारें
स्वयं को सुधारें
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
अपनापन
अपनापन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
"आशिकी ने"
Dr. Kishan tandon kranti
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
भारत की पुकार
भारत की पुकार
पंकज प्रियम
ना जाने
ना जाने
SHAMA PARVEEN
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
Suryakant Dwivedi
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
शेखर सिंह
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
Taj Mohammad
प्रीत ऐसी जुड़ी की
प्रीत ऐसी जुड़ी की
Seema gupta,Alwar
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
दीवाने खाटू धाम के चले हैं दिल थाम के
दीवाने खाटू धाम के चले हैं दिल थाम के
Khaimsingh Saini
2428.पूर्णिका
2428.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
Ravi Prakash
न मां पर लिखने की क्षमता है
न मां पर लिखने की क्षमता है
पूर्वार्थ
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
Utkarsh Dubey “Kokil”
Loading...