Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

घूंटती नारी काल पर भारी ?

घूंटती नारी काल पर भारी ?
☘️🍀🌷🌹🌹
सुख सुंदर सपनों की माया
क्यों मलीन करती है काया
चंचल मन शीतलता देवी

फिर क्यों उदास होती रहती
मान अपमान अभिमान का
सहारा साहस आस्था भरा
श्रम कर्म संस्कार पूरित हो

फिर क्यों हताश निराश लगती
तेरी मीठी मुस्कानों में छिपी है
देश समाज परिवार सुख सपने
गर्व अभिमान के जग रक्षक तू

फिर क्यों उदास निराश दिखती
चित चिंतिंत चिंता भरी विभूति
रेखा बीच ललाट की त्रिलोचन
रौद्र क्रुध कपाट रुद्र रूप लिए

क्यों ? दुर्गा काली दीख रही
आधुनिकता पसरी क़ालीन
नारी सम्मान नहीं अपमान
तिरस्कार वासना भूत शिकार

त्राहीमाम करती करुणामयी
काया माया छोड तलवार उठानें
की रूत आयी सोंच नहीं उठा
खंजर बन रणचंडी बचा नारी

भृकुटी तान महाकाल लगती
घूंटटी जीवन टपकती आंसू
छोड आंखों की क़जरा गज़रा
कलेजे में ताने बाने ज़हरीली

वाणी मुरझा चेहरा ओठ लाल
मलीन विवश निरस नयन सरस
मधु लाचार मजबूर निज वतन
अबला मधुर जीवन बर्बाद कर

जगत आस अरमान छीन रही
धिक्कार हुंकार विकार निकाल
मिटा काली रात दिवा मतवाली
प्रज्वलित देव दिवाली दिल नारी

नारी तू अबला नहीं सबला हो
मांग लाल संभाल देश के लाल
त्याग घूंघट घूंट घूंटन जीवन का
कीमत समझ नारी मातृभूमि का
☘️🍀💐🙏🙏☘️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
1 Like · 84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
जरा सी गलतफहमी पर
जरा सी गलतफहमी पर
Vishal babu (vishu)
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
DrLakshman Jha Parimal
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मां
मां
Sanjay ' शून्य'
*योग-दिवस (बाल कविता)*
*योग-दिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सनातन सँस्कृति
सनातन सँस्कृति
Bodhisatva kastooriya
#अबोध_जिज्ञासा
#अबोध_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
"सैनिक की चिट्ठी"
Ekta chitrangini
"उल्लास"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत प्यार करती है वो सबसे
बहुत प्यार करती है वो सबसे
Surinder blackpen
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
चरचा गरम बा
चरचा गरम बा
Shekhar Chandra Mitra
दुश्मन कहां है?
दुश्मन कहां है?
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
SATPAL CHAUHAN
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
If you have  praising people around you it means you are lac
If you have praising people around you it means you are lac
Ankita Patel
जीवन -जीवन होता है
जीवन -जीवन होता है
Dr fauzia Naseem shad
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
अनिल अहिरवार"अबीर"
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
हाइकु- शरद पूर्णिमा
हाइकु- शरद पूर्णिमा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
gurudeenverma198
मैं हूं आदिवासी
मैं हूं आदिवासी
नेताम आर सी
जो हुआ वो गुज़रा कल था
जो हुआ वो गुज़रा कल था
Atul "Krishn"
Loading...