Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2023 · 1 min read

*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)

घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
——————————————–
(1)
ईमानदारी लोभ का , स्पर्श पा मुरझा गई
छल-कपट की बात करना ,खून में फिर आ गई
(2)
जो नहीं होना था मुझसे ,भूख वह करवा गई
बदनसीबी थी गरीबी ,मुझको आकर खा गई
(3)
देवता भी सत्य पर ,रहते अडिग कब तक भला
लार टपकी और फिर , काली कमाई भा गई
(4)
साजिशों को रच रहे थे, देवता चुपचाप कुछ
एक चिड़िया फड़फड़ाती, आई शोर मचा गई
(5)
जिंदगी का इस तरह से, खत्म किस्सा हो गया
देह की औकात आकर ,मौत फिर बतला गई
(6)
अजनबी – सी राह पर, जाने कहाँ फिसले कदम
जिंदगी की दौड़ हमको, इस तरह भटका गई
(7)
कौन मेरे जैसा हेठा, भाग्य का होगा कहीं
घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई
—————————————————
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
तन्हाईयां सुकून देंगी तुम मिज़ाज बिंदास रखना,
तन्हाईयां सुकून देंगी तुम मिज़ाज बिंदास रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
मैं नहीं कहती
मैं नहीं कहती
Dr.Pratibha Prakash
उर्दू
उर्दू
Surinder blackpen
3426⚘ *पूर्णिका* ⚘
3426⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जल्दी-जल्दी  बीत   जा, ओ  अंधेरी  रात।
जल्दी-जल्दी बीत जा, ओ अंधेरी रात।
गुमनाम 'बाबा'
ग़ज़ल _ शबनमी अश्क़ 💦💦
ग़ज़ल _ शबनमी अश्क़ 💦💦
Neelofar Khan
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
* सत्य पथ पर *
* सत्य पथ पर *
surenderpal vaidya
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
"अकाल"
Dr. Kishan tandon kranti
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
■ तो समझ लेना-
■ तो समझ लेना-
*प्रणय प्रभात*
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
VINOD CHAUHAN
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
ज़माना
ज़माना
अखिलेश 'अखिल'
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
*बारात में पगड़ी बॅंधवाने का आनंद*
*बारात में पगड़ी बॅंधवाने का आनंद*
Ravi Prakash
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
आज अंधेरे से दोस्ती कर ली मेंने,
Sunil Maheshwari
शिव का सरासन  तोड़  रक्षक हैं  बने  श्रित मान की।
शिव का सरासन तोड़ रक्षक हैं बने श्रित मान की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
My love at first sight !!
My love at first sight !!
Rachana
Loading...