Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

“घर बनाने के लिए”

“घर बनाने के लिए”
ईंट पत्थर से नहीं बनता
कोई भी आशियाना,
ख्वाब भी तो जरूरी है
घर बनाने के लिए।

1 Like · 1 Comment · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
मांओं को
मांओं को
Shweta Soni
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
इश्क अमीरों का!
इश्क अमीरों का!
Sanjay ' शून्य'
*चाँदी को मत मानिए, कभी स्वर्ण से हीन ( कुंडलिया )*
*चाँदी को मत मानिए, कभी स्वर्ण से हीन ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
एकांत
एकांत
Monika Verma
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
शेखर सिंह
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
😊#The_One_man_army_of_my_life.…...
😊#The_One_man_army_of_my_life.…...
*Author प्रणय प्रभात*
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
दिल नहीं
दिल नहीं
Dr fauzia Naseem shad
"चुम्बन"
Dr. Kishan tandon kranti
एक नई उम्मीद
एक नई उम्मीद
Srishty Bansal
हमारे रक्षक
हमारे रक्षक
करन ''केसरा''
💐प्रेम कौतुक-531💐
💐प्रेम कौतुक-531💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
उसकी गली तक
उसकी गली तक
Vishal babu (vishu)
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
3105.*पूर्णिका*
3105.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
Manisha Manjari
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
Manoj Mahato
Loading...