Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

गज़ल

हम तो सुध बुध ही भूल जाते हैं
वो नजर से नजर कभी मिलाते हैं

कौन उल्फत की बात करता है
लोग मतलव से आते’ जाते है

काट दी ज़िंदगी फिर आएगा
जाने वाले न लौट पाते हैं

हाथ पर इक लकीर उसकी है
आओ निर्मल उसे मिटाते है।

ठोकरें दर- ब -दर लगीं लेकिन
खा के फिर उनको भूल जाते है।

हम फकीरों से पूछना क्या अब
भूख मे हंसते गुनगुनाते है

बाप को मुफलिसी कसक दे तब
भूख से बच्चे छटपटाते है

254 Views
You may also like:
अगर तुम सावन हो
bhandari lokesh
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
दो जून की रोटी।
Taj Mohammad
*"चित्रगुप्त की परेशानी"*
Shashi kala vyas
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
कहीं कोई भगवान नहीं है//वियोगगीत
Shiva Awasthi
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मंज़िल की चाहत ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
मायका
Anamika Singh
जब पिया घर नही आए
Ram Krishan Rastogi
*पड़ोसी की बनी कोठी, पड़ोसी देख जलता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
यह तुमने क्या किया है
gurudeenverma198
✍️सुलूक✍️
'अशांत' शेखर
ख्वाब हो गए वो दिन
shabina. Naaz
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैथिलीमे चारिटा हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तितली
Manshwi Prasad
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
"हिंदी से हिंद का रक्षण करें"
पंकज कुमार कर्ण
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़
Dr Archana Gupta
" हाथी गांव "
Dr Meenu Poonia
बचपन की साईकिल
Buddha Prakash
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
दिल का तुमको
Dr fauzia Naseem shad
परिणय के बंधन से
Dr. Sunita Singh
Loading...