Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गज़ल

हम तो सुध बुध ही भूल जाते हैं
वो नजर से नजर कभी मिलाते हैं

कौन उल्फत की बात करता है
लोग मतलव से आते’ जाते है

काट दी ज़िंदगी फिर आएगा
जाने वाले न लौट पाते हैं

हाथ पर इक लकीर उसकी है
आओ निर्मल उसे मिटाते है।

ठोकरें दर- ब -दर लगीं लेकिन
खा के फिर उनको भूल जाते है।

हम फकीरों से पूछना क्या अब
भूख मे हंसते गुनगुनाते है

बाप को मुफलिसी कसक दे तब
भूख से बच्चे छटपटाते है

180 Views
You may also like:
मां
Anjana Jain
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अंदाज़।
Taj Mohammad
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
चाहत
Lohit Tamta
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
मुक्तक
AJAY PRASAD
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
मेरी खुशी तुमसे है
VINOD KUMAR CHAUHAN
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
Loading...